Press "Enter" to skip to content

जानिए चीन ने 10 लाख मुसलमानों को क्यो भेजा है जेल?

22 August 2018
🚩भारत में मुसलमान इतना सुरक्षित है कि जितना मुस्लिम बाहुल देश में भी नही है, चीन
में तो उन पर भयंकर सख्ती बरती जा रही है,
फिर भी भारत मे हमेशा सहिष्णु हिन्दुओं को ही टारगेट किया जाता रहा है । मीडिया बॉलीवुड द्वारा भी यही बताया जा रहा है कि हिन्दू हिंसा करते है । चीन का रिपोर्ट पढ़ लीजिये तो आपका होश उड़ जायेंगे ।
Know why China has sent 10 lakh Muslims to jail ?
🚩नई देहली : चीन में उइगर मुसलमानों और स्थानीय सरकार के बीच विरोध-प्रदर्शन की खबरें आम हैं। इन प्रदर्शनों में सैकडों लोगों के मारे जाने की भी खबरें आती रही हैं। चीन अपने यहां कई मुस्लिम संगठनों पर सख्त निगरानी रखता है।
🚩चीन में उइगर मुसलमानों पर काफी सख्ती बरती जा रही है। चीन इन्हें हिंसा फैलानेवाला समूह कहता है और इनपर सख्त निगरानी रखता है। कुछ दिन पहले संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार पैनल की एक रिपोर्ट में कहा था कि इस बात की विश्वसनीय रिपोर्ट्स हैं कि चीन ने 10 लाख उइगर मुसलमानों को खुफिया शिविरों में कैद कर रखा है ! मानवाधिकार पैनल ने शिनजियांग प्रांत में सामूहिक हिरासत शिविरों में कैद उइगर मुसलमानों को लेकर चिंता जाहिर की है !
🚩बता दें कि चीन में करीब ढाई करोड मुस्लिम रहते हैं। ये सभी अलग-अलग समुदाय जैसे हुई, उइगर, कजाख, डोंगजियांग, किर्गीज और उज्बेक समूहों से हैं। इसमें हान चीनी को प्रभावशाली समूह माना जाता है। हुई समुदाय के ज्यादातर लोग निनजा में रहते हैं। यह इलाका इनर मंगोलिया के करीब है और चीन इस समुदाय को महत्त्व भी देता है !
🚩तुर्की भाषा बोलनेवाला समुदाय उइगर शिनजियांग (उत्तरपश्चिम चीन) में रहते हैं और इनपर चीनी सरकार का काफी नियंत्रण है। इस समुदाय के लोगों को कई बार बिना किसी वॉरंट के हिरासत में ले लिया जाता है। 2016 में रेडियो फ्री एशिया ने बताया था कि शिनजियांग में तीन महीने के भीतर 1000 मस्जिदों को ध्वस्त कर दिया गया था !
🚩आखिर उइगर मुस्लिमों पर चीन को क्यों नहीं है भरोसा ?
🚩उइगर हानी चाइनीज की जगह सांस्कृतिक रूप से मध्य एशियाई देशों के ज्यादा करीब माने जाते हैं। उइगर मुसलमानों पर निगरानी और सख्त नियंत्रण रखा जाता है और इसके कारण कई बार वहां हिंसात्मक हमले हुए हैं। इसके बाद चीन ने उइगर समुदाय पर और ज्यादा निगरानी बैठा दी !
🚩यह क्षेत्र चीन के लिए अहम क्यों ?
🚩शिनजियांग की सीमा मध्य एशियाई देशों और भारत से लगती है। इस लिहाज से चीन के लिए यह इलाका काफी अहम है। इसके अलावा चीन की महत्वाकांक्षी योजना बेल्ट ऐंड रोड भी यहां से होकर गुजरती है !
🚩गत शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र के एक पैनल ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि दस लाख उइगरों को शिविरों में रखा गया है। हालांकि चीन ने संयुक्त राष्ट्र के इस दावे को खारिज कर दिया था। चीन ने कहा कि इस रिपोर्ट के पीछे पेइचिंग के खिलाफ काम करनेवाले लोग हैं। चीन कहता आया है कि शिनजियांग को इस्लामिक आतंकवादियों और अलगाववादियों से खतरा है। ये आतंकवादी हमले की साजिश रचते हैं और अल्पसंख्यक मुसलमानों को निशाना बनाकर तनाव फैलाने की कोशिश करते हैं !
🚩पिछले दो सालों में अधिकारियों ने नाटकीय तौर पर इस इलाके में निगरानी और सुरक्षा बढ़ा दी है। इसके तहत पुलिस चेक पॉइंट, रिडक्शन सेंटर्स और बड़े पैमाने पर डीएनए एकत्र किए जा रहे हैं। चीन के मानवाधिकार रिकॉर्ड की जांच करनेवाले संयुक्त राष्ट्र पैनल के सदस्यों ने बताया कि उन्हें इस बात की पुख्ता जानकारी मिली है कि दस लाख उइगर मुसलमानों को कैंपों में रखा गया है !
🚩संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट को चीन ने खारिज किया
🚩चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने लू कंग ने कहा कि चीन विरोधी लोगों की यह रिपोर्ट है। पिछले सप्ताह चीन में उइगर मुसलमानों को कैंपों में रखने की रिपोर्ट को उजागर करनेवाली संयुक्त राष्ट्र पैनल की वाइस चेयरवुमन गे मैकडॉगल ने कहा कि वह हिरासत में लिए गए उइगरों पर चीन के इनकार से सहमत नहीं हैं ! उन्होंने कहा, ‘आप कहते हैं कि शिविरों में दस लाख लोग नहीं है। ठीक है तो आप ही बताएं वहां कितने लोग हैं ? आखिर किस कानून के तहत उन्हें हिरासत में लिया गया है ?’ मैकडॉगल ने चिंता जताई है थी कि सिर्फ अपनी नस्लीय धार्मिक पहचान की वजह से उइगर समुदाय के साथ चीन में देश के दुश्मन की तरह बर्ताव किया जा रहा है। उन्होंने तमाम रिपोर्ट्स के हवाले से कहा है विदेशों से शिनजियांग प्रांत में लौटनेवाले सैकडों उइगर स्टूडेंट्स गायब हो गए हैं। उन्होंने दावा किया कई हिरासत में हैं और कई हिरासत में मर भी चुके हैं !
🚩मैकडॉगल ने कहा कि पेइचिंग ने इस स्वायत्त क्षेत्र को एक विशाल नजरबंदी शिविर जैसा बना रखा है। ऐसा लगता है कि यहां सारे अधिकार निषिद्ध हैं और सबकुछ गुप्त है ! उनके अनुसार धार्मिक उग्रवाद से निपटने के लिए चीन ने ऐसा किया है !
🚩हालांकि प्रतिनिधिमंडल के लीडर यू जियानहुआ ने कहा कि पैनल के कुछ सदस्यों ने कुछ अप्रमाणिक बातों को भी सच मान लिया है। उन्हें कुछ समूहों से जो रिपोर्ट मिली उसे सही मान लिया गया। ये वैसे लोग हैं जो चीन को तोड़ने की साजिश रच रहे हैं और उनका संबंध आतंकी संगठनों से है !
🚩हाल के सालों में सुरक्षा निगरानी के कारण हुई हिंसा में शिनजियांग में सैकडों लोग मारे गए हैं। मानवाधिकार समूह और निर्वासित जिंदगी जी रहे उइगरों ने बताया कि यह हिंसा उइगरों की संस्कृति, धर्म और क्षेत्र पर चीनी नियंत्रण के कारण फैली निराशा के कारण हुई है। इसी कारण आतंकी गुटोंद्वारा हिंसा की जा रही है !
🚩बता दें की चीन आधिकारिक तौर पर इस क्षेत्र में धार्मिक स्वतंत्रता की बात कहता रहा है लेकिन, हाल के सालों में इस मुस्लिम इलाके में सख्ती के साथ निगरानी बढ़ाई गई है। इस क्षेत्र में चीन की इस सख्ती के कारण कई अन्य मुस्लिम समूहों में इस बात का डर बढ़ रहा है कि सरकार शिनजियांग के अलावा अन्य जगहों पर भी सख्ती बढ़ा सकती है। सख्ती के तहत चीनी सरकार ने मस्जिदों में युवाओं के लिए धार्मिक शिक्षा पर बैन लगा दिया है। इसके अलावा कुछ जगहों पर लाउडस्पीकर से अजान पर भी पाबंदी लगा दी गई है !
🚩गौरतलब है कि शिनजियांग प्रांत में उइगर मुसलमान बहुसंख्यक हैं। चीन के पश्चिमी हिस्से में स्थित इस प्रांत को आधिकारिक रूप से स्वायत्त घोषित करके रखा गया है। कई अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठनों ने उइगर मुसलमानों को सामूहिक हिरासत कैंपों में रखने और उनके धार्मिक क्रियाकलापों में हस्तक्षेप करने को लेकर चीन की आलोचना की है ! स्त्रोत : नवभारत टाईम्स
🚩भारत मे हिन्दुओ से अधिक मुसलमानों को सुविधा दी जा रही है फिर भी हिन्दुओ के खिलाफ ही मीडिया, सेकुलर चिल्लाते रहते है ।
🚩भारत मे मुसलमानों की लड़कियों की शादी के लिए 51000 रुपये दिए जाते है, मदरसों में पढ़ाई के लिए सब्सीडी दी जाती है, राशन कार्ड दिए जाते है, सुरक्षा दी जाती है, मंदिर के पैसे से मस्जिदे बनाई जाती है फिर भी बोलते है हम भारत मे असुरक्षित है ।
🚩बहरहाल तथाकथित सेक्यूलर और बॉलीवुड के कलाकार भी सवाल उठाते रहे हैं कि ‘भारत में मुस्लिम होना कितना मुश्किल है |’ यही नहीं इसके साथ, दुनिया भर में दुष्प्रचार किया जा रहा है कि हिन्दू बेहद खतरनाक हैं ।
🚩आपको बता दें कि ये वही देश है जहां 1947 में 3 करोड़ मुसलमान थे, जो आज बढ़कर 25 करोड़ हो गए हैं । जाहिर है, बिना हिन्दुओं की सहिष्णुता और सहयोग के यह असंभव था ।
🚩अफगानिस्तान, बांग्लादेश, पाकिस्तान जो पहले अखण्ड भारत का हिस्सा था, लेकिन मुसलामानों ने टुकड़े करके उसे अलग देश बना दिया और पहले से जो वहाँ हिन्दू रह रहे थे, उनपर भीषण अत्याचार किया जा रहा है, जिसके कारण हिन्दू वहाँ से पलायन कर रहे हैं या उनका जबरन धर्मपरिवर्तन किया जा रहा है, इस चीज लिए कोई कुछ नही बोलता है, सभी चुप्पी साधे बैठे हैं ।
🚩भारत में मुसलमान इतना सुरक्षित है कि जितना मुस्लिम बाहुल देश में भी नही है, फिर भी हमेशा सहिष्णु हिन्दुओं को ही टारगेट किया जाता रहा है | मीडिया बॉलीवुड द्वारा भी यही बताया जा रहा है कि हिन्दू हिंसा करते है । इससे साफ होता है कि अरब आदि देशों से भारत के हिंदुओं को बदनाम करने के लिए भारी फंडिग भी मिलती होगी ।
🚩हिंदुओ को जाति-पाति छोड़कर एक हो जाना चाहिए और हिन्दू संस्कृति पर आघात कर रहे, षड़यंत्रकारियों को करारा जवाब देना चाहिए ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

One Comment

  1. Ghanshyam das godwani Ghanshyam das godwani August 22, 2018

    भारत में मुसलमान इतना सुरक्षित है कि जितना मुस्लिम बाहुल देश में भी नही है, चीन
    में तो उन पर भयंकर सख्ती बरती जा रही है,
    फिर भी भारत मे हमेशा सहिष्णु हिन्दुओं को ही टारगेट किया जाता रहा है । मीडिया बॉलीवुड द्वारा भी यही बताया जा रहा है कि हिन्दू हिंसा करते है । चीन का रिपोर्ट पढ़ लीजिये तो आपका होश उड़ जायेंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »