Press "Enter" to skip to content

क्या इस देश में बहुसंख्यक होना अपराध है ? : डॉ विवेक आर्य

19 September 2018
🚩आजकल हामिद अंसारी, पूर्व उपराष्ट्रपति का आपने विदाई भाषण में दिया गया बयान कि भारत में मुस्लिम भयभीत हैं, चर्चा में है । उनका यह बयान कांग्रेस की अल्पसंख्यक के नाम पर बरगलाने की पुरानी नीति का अनुसरण मात्र है । भारत के मुसलमानों को इतना भयभीत करो कि वह सेकुलरता के नाम पर कांग्रेस को वोट करें । उनकी इसी नीति का परिणाम यह निकला की देश के हिन्दुओं ने संगठित होकर भाजपा को वोट दिया । जिससे कांग्रेस की बुरी दशा हो गई । इस लेख का उद्देश्य राजनीति नहीं अपितु यह दर्शना है कि मुसलमानों को रिझाने के नाम पर हमारे राजनेताओं ने क्या-क्या किया । पढ़ने वालों की आंखें खुल जाएगी । हमारे संविधान में मुसलमान, ईसाई , सिख, जैन , बौद्ध और पारसी को मुख्य रूप से अल्पसंख्यक माना गया है । यह परिभाषा गलत है । कश्मीर और उत्तरपूर्वी राज्यों में हिन्दू अल्पसंख्यक हैं । फिर भी उसे कोई अल्पसंख्यक वाली सुविधा नहीं मिलती, जबकि एक मुसलमान को कश्मीर में और एक ईसाई को नागालैंड में बहुसंख्यक होते हुए भी सभी अल्पसंख्यक वाली सुविधाएँ मिलती है । इससे यही निष्कर्ष निकलता है कि अल्पसंख्यक के नाम पर मलाई केवल गैर हिन्दुओं के लिए है । पाठक सोच रहे होंगे कि मैं इसे मलाई क्यों बोल रहा हूँ । आप पढ़ेंगे तो आपकी आंखें खुली की खुली रह जाएंगी ।
Is crime in the country to be a majority? : Dr. Vivek Arya
🚩अल्पसंख्यक के नाम पर सुविधा की सूची:- 
🚩1. एक हिन्दू अगर कोई शिक्षण संस्थान खोलता है तो उसे उस संस्थान की 25% सीटों को अल्पसंख्यक वर्ग के लिए आरक्षित रखना होता है । जहाँ पर अल्पसंख्यक वर्ग को नाम मात्र की फीस देनी होती है, जबकि हिन्दू छात्रों को भारी भरकम फीस देनी पड़ती है । अर्थात अल्पसंख्यकों को हिन्दू अपने जेब से पढ़ाता है ।
🚩2. किसी भी अल्पसंख्यक को शिक्षण संस्थान खोलने के लिए सरकार 95% तक आर्थिक सहयोग करती है, जबकि किसी हिन्दू को अपने संस्थान को खोलने के लिए आसानी से लोन तक नहीं मिलता । अल्पसंख्यक संस्थान sc/st/obc के अनुपात में शिक्षकों की भर्ती के लिए किसी भी प्रकार से बाध्य नहीं है, जबकि एक हिन्दू संस्थान को सरकारी नियम के अनुसार अध्यापकों की भर्ती इसी अनुपात में करनी होती है । अर्थात किसी भी मुस्लिम या ईसाई संस्थान के 100% शिक्षक मुस्लिम या ईसाई हो सकते हैं । वहां पर किसी भी हिन्दू शिक्षक को कभी नौकरी पर रखने के लिए कोई बाध्य नहीं कर सकता । यह सरकारी सुविधा National Commission for Minority Education Institutions (NCMEI) के अंतर्गत सरकार द्वारा दी जाती है । UPA सरकार के कार्यकाल में हज़ारों मुस्लिम या ईसाई संस्थानों को अनुमति दी, जबकि हिन्दू संस्थाओं को अनुमति के लिए दफ्तरों के चक्कर के चक्कर काटने पड़े ।
🚩3. 2014-2015 में 7,500,000 अल्पसंख्यक छात्रों को कक्षा पहली से दसवीं तक 1100 करोड़ रुपये छात्रवृति के रूप में दिया गया ।
4. इसी काल में 11वीं से पीएचडी तक 905,620 अल्पसंख्यक छात्रों को 501 करोड़ रुपये छात्रवृति के रूप में दिए गए ।
🚩5. इसी काल में टेक्निकल शिक्षा के लिए 138,770 अल्पसंख्यक छात्रों को 381 करोड़ रुपये छात्रवृति के रूप में दिए गए ।
6. अल्पसंख्यक छात्रों को प्रोफेशनल कोर्स की कोचिंग के लिए 1500 से 3000 रुपये का अनुदान दिया गया । वर्तमान सरकार ने यह अनुदान दुगुना कर दिया है ।
🚩7. 2015-2016 में मौलाना आज़ाद राष्ट्रीय फ़ेलोशिप के नाम पर 7,500,000 अल्पसंख्यक छात्रों को पीएचडी और M.Phil के लिए 55 करोड़ रुपये छात्रवृति के रूप में दिया गया ।
8. UPSC और SPSC के prelim में प्रवेश पाने पर 50000 से 250000 रुपये तक का सहयोग अल्पसंख्यक छात्रों को दिया गया ।
🚩9. पढ़ो-पढ़ाओ अभियान के अंतर्गत विदेश में शिक्षा के लिए पीएचडी और M.Phil के लिए 55 करोड़ रुपये छात्रवृति के रूप में दिए गए ।
10. नई मंजिल अभियान के अंतर्गत मोदी सरकार ने मदरसों में पढ़ने वाले 25000 बच्चों की शिक्षा के लिए 155 करोड़ रुपये छात्रवृति के रूप में दिए ।
🚩11. बेगम हजरत महल छात्रवृति योजना के अंतर्गत कक्षा 11 वीं और 12 वीं की 48000 छात्राओं को 57 करोड़ रुपये छात्रवृति के रूप में दिए गए ।
12. बैंक से लोन व्यवस्था में भी अल्पसंख्यक को विशेष अधिकार प्राप्त है । रोजगार के लिए 30 लाख तक लोन केवल 8% (पुरुषों के लिए) और 6% (महिलाओं के लिए) दिया जाता है ।
🚩13. शिक्षा लोन व्यवस्था में भी अल्पसंख्यक को विशेष अधिकार प्राप्त है । प्रोफेशनल शिक्षा के लिए देश में 20 लाख और विदेश में 30 लाख का लोन केवल 4% (छात्रों के लिए) और 2% (छात्राओं के लिए) दिया जाता है ।
14. इसके अतिरिक्त अल्पसंख्यक युवाओं को Vocational Training Scheme, Marketing Assistance Scheme, Mahila Samridhi Yojana and Grant in Aid Assistance scheme आदि योजनाओं के अंतर्गत विशेष लाभ दिया जाता है ।
🚩15. जिन जिलों में अल्पसंख्यक की जनसंख्या 20% से ऊपर है । उन्हें विशेष रूप से धन दिया जा रहा है । एक जिले में अगर कोई ब्लॉक ऐसा है जिसमें 25% से अधिक अल्पसंख्यक की जनसंख्या है, तो वे भी इस सुविधा के अंतर्गत आते हैं । ऐसे देश में 710 ब्लॉक और 196 जिलों का चयन केंद्र सरकार द्वारा 12 वीं पञ्च वर्षीय योजना के अंतर्गत किया गया है । इन जिलों पर सरकार अल्प संख्यक विकास के नाम पर हर वर्ष 1000 करोड़ रुपये खर्च करती है । सोचिए अगर हिन्दू बाहुल्य गरीब पिछड़ा हुआ जिला या ब्लॉक है तो उसे केवल हिन्दू होने के कारण यह लाभ नहीं मिलेगा ।
16. सीखो सिखाओ, उस्ताद, नई रोशनी, हमारी धरोहर, अल्पसंख्यक महिलाओं और वक्फ बोर्ड के लिए विशेष रूप से चलाई गई योजनाएं है ।
🚩17. हिन्दुओं को इस प्रकार की किसी योजना का कोई लाभ नहीं मिलता । इसके विपरीत सरकार द्वारा हर समृद्ध और बड़े हिन्दू मंदिरों का अधिग्रहण कर लिया गया है । वहां से प्राप्त होने वाला धन और दान सरकार अपने कोष में पहले जमा करती है, फिर उसी धन को ईसाई चर्च और मस्जिद-मदरसों के विकास पर खर्च करती है । ईसाई चर्च और मदरसों को विदेशों से मिलने वाले धन पर सरकार का कोई हक नहीं है, क्योंकि अल्पसंख्यकों से जुड़े मामलों में सरकार हस्तक्षेप नहीं करती ।
18. हिन्दुओं के मनोबल को तोड़ने के लिए जल्लिकट्टु, दही-हांडी, होली, दिवाली आदि पर सरकार अपना हस्तक्षेप करना हक समझती है, जबकि बकरीद पर लम्बी चुप्पी धारण कर लेती हैं, क्योंकि अल्पसंख्यकों से जुड़े मामलों में सरकार हस्तक्षेप नहीं करती ।
🚩19. हज़ यात्रा पर दी जाने वाले सब्सिडी पहले 500 करोड़ थी। जिसे अटल बिहारी जी की सरकार से 1000 करोड़ कर दिया था, जबकि अमरनाथ आदि यात्रा पर विशेष कर सुविधा के नाम पर लगाया जाता है ।
20. इसके अतिरिक्त सच्चर आयोग के नाम पर मुस्लिम सांसद चाहे वो किसी भी राजनीतिक पार्टी के हों, सरकार पर सदा दबाव बनाने का कार्य करते हैं ।
🚩हम यह भी भूल गए कि 1947 में देश के ही मुसलमानों ने पाकिस्तान और बांग्लादेश इसी मानसिकता के चलते लिए थे कि मुसलमान कभी हिन्दू बाहुल्य देश में नहीं रह सकता । यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी कि हमारे देश के मुसलमानों की सेवा घर के जमाई के समान देश के हिन्दू कर रहे हैं । फिर भी 10 वर्ष तक उपराष्ट्रपति के पद पर बैठकर मलाई खाने के बाद भी देश का उपराष्ट्रपति का बयान यही दर्शाता है कि वे उसी मानसिकता के पोषक है, जिसने इस देश का विभाजन करवाया था ।
🚩यह लेख पढ़कर मेरे मन में एक ही विचार आता है कि क्या इस देश में बहुसंख्यक होना अपराध है ?
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
More from UncategorizedMore posts in Uncategorized »

One Comment

  1. Surender kumar Surender kumar September 19, 2018

    अल्पसंख्यक के नाम पर कुछ लोगों को VIP treatment मिल रहा है जो गलत है।

    सरकार को तत्काल रूप से ऐसी नीति बन्द कर देनी चाहिए और सबको एक समान दृष्टि से देखना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »