Press "Enter" to skip to content

जॉनसन के प्रोडक्ट का उपयोग करते हैं तो हो जाइये सावधान, पढ़ ले रिपोर्ट

15 july 2018 
🚩अधिकतर लोग ये सोचते है कि मार्केट में बच्चों के लिए जो प्रोडक्ट आते है। उनसे सेफ शायद कुछ नहीं हो सकता है। वह हमारी स्किन के लिए बिल्कुल परफेक्ट होते है। माना जाता है कि बच्चों के प्रोडक्ट्स में दूध का इस्तेमाल किया जाता है। जिससे कि उनकी स्किन सॉफ्ट बनी रहें लेकिन आप ये बात नहीं जानते है कि इससे भी साइड इफेक्ट होते है और ऐसे साइड इफेक्ट जिससे कि आपकी जान भी जा सकती है। 
If Johnson uses the product then be careful, read the report
🚩भारत समेत कई देशों में बच्चों के लिए ज्यादातर लोग जॉनसन एंड जॉनसन के प्रोडक्ट का इस्तेमाल करते आ रहे हैं। लेकिन अमेरिका में कुछ महिलाओं में जॉनसन एंड जॉनसन बेबी पाउडर की वजह से ओवेरियन (गर्भाशय) कैंसर के लक्षण मिले हैं। पिछले दिनों अमेरिका की एक कोर्ट में हुई सुनवाई के दौरान महिलाओं ने कहा कि उन्हें जॉनसन एंड जॉनसन के बेबी पाउडर में मौजूद अस्बस्ट्स की वजह से ओवेरियन कैंसर हुआ।
🚩1970 से पाउडर में मौजूद है अबस्टस
🚩कोर्ट में केस करने वाली महिलाओं का कहना है कि बेबी पाउडर में अबस्टस की मौजूदगी साल 1970 से प्रमाणित है इसके बावजूद कंपनी ने ग्राहकों को न तो इसके बारे में जानकारी दी है और न ही इससे होने वाले खतरों से आगाह किया है।
🚩कोर्ट ने दिया मुआबजा देने का आदेश
🚩दोनों पक्षों की बात सुनने के बाद कोर्ट इस नतीजे पर पहुंचा है कि महिलाओं को कैंसर बेबी पाउडर के कारण ही हुआ है। पीड़ित महिलाओं की बात सुनने के बाद कोर्ट ने कंपनी को मुआबजा देने का आदेश जारी किया है। कोर्ट ने 22 पीड़ित महिलाओं को 4.69 अरब डॉलर के मुआबजे आदेश जारी किया है। कोर्ट के आदेश के बाद जहां 
550 मिलियन डॉलर हर्जाने के रूप में देने के आदेश हुए, वहीं 4.14 बिलियन डॉलर का कंपनी पर दंड लगाया है।
🚩9000 केस लड़ रही हैं कंपनी
🚩जॉनसन एंड जॉनसन के खिलाफ अमेरिका में यह कोई पहला केस नहीं है। प्रोडक्ट के कारण कई बीमारियां सामने आने के बाद जॉनसन एंड जॉनसन कई देशों में लगभग 9000 से ज्यादा केस लड़ रही है। पहले भी अरबो रुपये का जुर्माना भरना पड़ा है ।
🚩यदि आप अपने नवजात शिशु या बच्‍चे के शरीर पर जॉनसन एंड जॉनसन का पॉवडर या बेबी ऑयल या कोई अन्‍य उत्‍पाद इस्‍तेमाल कर रहे हैं, तो सावधान हो जायें। इसमें इथाइल ऑक्‍साइड हो सकता है। यही कारण है कि महाराष्‍ट्र फूड एंड ड्रग एडमिनिस्‍ट्रेशन (एफडीए) ने मुंबई में मुलुंड स्थित कंपनी के प्‍लांट का लाइसेंस निलंबित कर दिया था।
🚩यह खबर न्‍यू इंडियन एक्‍सप्रेस में प्रकाशित हुई थी, खबर के अनुसार यह आदेश 2007 में जारी किया गया था जब जॉनसन एंड जॉनसन के उत्‍पादों में कार्सिनोजेनिक तत्‍व पाये गये थे। बाद में पता चला कि ऐसे तत्‍व टेलकम पॉवडर को इथाइल ऑक्‍साइड से स्‍टरलाइज किये जाने पर पैदा हुए और ये तत्‍व त्‍वचा के लिये हानिकारक होते हैं।
🚩एफडीए ज्‍वाइंट कमिशनर (ड्रग्‍स) ने इस संबंध में अखबार से कहा है कि कंपनी के उत्‍पादों में जरूरत से अधिक इथईलीन ऑक्‍साइड पाया गया, जिससे कैंसर तक हो सकता है। इथईलीन ऑक्‍साइड का इस्‍तेमाल टेलकम पॉवडर बनाने में किया जाता है। लेकिन पाउडर में यह तत्‍व नहीं पाया जाना चाहिये। चूंकि ये पॉवडर नवजात बच्‍चों के लिये होता है इसलिये हमने लाइसेंस कैंसल कर दिया।
🚩आपको बता दे कि नमी को अवशोषित और सुधार लाने के लिए पाउडर का विभिन्न कॉस्मेटिक उत्पादों में इस्तेमाल किया जाता है। पाउडर स्वाभाविक रूप से खनिज है और मैग्नीशियम, सिलिकॉन, ऑक्सीजन और हाइड्रोजन से बना होता है। कई अध्ययनों के अनुसार, प्रिनेअल एरिया (perineal area) में पाउडर लगाने से गर्भाशय का कैंसर हो सकता है। जर्नल कैंसर में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, पाउडर कैंसरकारी तत्व (carcinogen) की तरह होता है, जिससे गर्भाशय का कैंसर हो सकता है। पाउडर का अत्यधिक इस्तेमाल एंडोमेट्रियल कैंसर के खतरे को बढ़ा सकता है।
🚩पाउडर से केवल कैंसर का ही खतरा नहीं होता है बल्कि इससे विशेषकर बच्चों को सांस की बीमारियों का भी खतरा हो सकता है। निमोनिया इन बीमारियों में से एक है।
🚩मालिस तेल में मिट्टी का तेल
🚩बहुत सी माताएं बहनें अपने नवजात शिशुओ छोटे बच्चों की मालिश जॉन्सन बेबी तेल से करती है। गाँव में रहने वाली बहनें एवं शहरी पढ़ी लिखी माताएं भी इस तेल के जाल में भ्रमित हैं। टीवी पर प्रचार की वजह से ये तेल लोगो के दिमाग में छा गया है। अधिकांश पढ़े लिखे लोग भी ये विश्वास नहीं करेंगे की इस जॉन्सन बेबी तेल में सिर्फ मिट्टी का तेल है। जी हाँ केरोसिन घासलेट । यकीन नहीं होता तो सीसी पर कम्पोजीशन पढ़िएगा। उसमे लिखा है की mineral oil ,vitamin E बस और कुछ नहीं। दाम देखिये दो सौ रुपये में दो सौ मिली लीटर। यानि हजार रुपये लीटर। माँ बहने इस तेल से मालिश करने में गर्व महसूस करती है क्योंकि प्रचार के बल पर ब्रेन वाश कर दिया है विदेशी कम्पनी ने। 
🚩विदेशी कम्पनियों ने टीवी में विज्ञापन देकर जनता को लुभाती है और पढ़े लिखे लोग भी मूर्ख बन जाते है और उनकी प्रोडक्ट खरीद के उपयोग करते है जो आपके स्वास्थ्य और पैसे की बर्बादी करता है अतः सावधान रहें और आज से ही स्वदेशी प्रोडक्ट का इस्तेमाल करके सुखी, स्वस्थ्य रहे ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »