Press "Enter" to skip to content

हांगकांग के अभिनेता जॅकी हुंग और फ्रांस के दंपति ने अपनाया हिंदू धर्म

1 दिसंबर 2018
🚩हिंदू धर्म सनातन धर्म है जबसे सृष्टि का उद्गम हुआ है तबसे यह धर्म चला आ रहा है, बाकी ईसाई धर्म 2018 और मुस्लिम धर्म 1500 साल पुराना है । बड़ी बात तो ये है कि ईसाई धर्म की स्थापना यीशु ने तथा मुस्लिम धर्म की स्थापना मोहम्मद पैंगबर ने की, लेकिन हिन्दू धर्म की स्थापना किसी ने नहीं की अनादि काल से चली आ रही है और हिन्दू धर्म में ही भगवान व ऋषि-मुनियों के अवतार हुए है किसी अन्य धर्म में नहीं हुए हैं । जब-जब अधर्म बढ़ जाता है तब समाज को मार्गदर्शन देने के लिए स्वयं भगवान ही अवतार लेते हैं ।
🚩सनातन हिन्दू धर्म की महिमा समझकर विदेशी लोग भी अपना धर्म छोड़कर हिन्दू धर्म में घरवासपी कर रहे हैं । एक सवाल जो आपके मन में भी आ रहा होगा वो ये कि इसे घरवासपी क्यों बताई जा रही है धर्मपरिवर्तन क्यों नहीं बोला गया? आपको बता दें कि जब सृष्टि का उद्गम हुआ था तब मात्र एक ही धर्म था जो केवल हिन्दू धर्म था, उसके बाद सारे मत पंथ निकले तो जन्म लेते ही हर मनुष्य हिन्दू ही होता है बाद में उसे बताया जाता है कि तू ईसाई है, मुसलमान है, बुद्धिष्ट है लेकिन वास्तव में हिन्दू ही होता है इसलिए हिन्दू धर्म अपनाना ये कोई धर्मपरिवर्तन नहीं हुआ बल्कि जो उनपर थोपा गया था कि तू ईसाई, मुसलमान आदि है उससे अपने मूल धर्म में वापस आता है तो उसको घरवासपी कहते हैं ।
🚩बता दें कि कई बड़ी हस्तियां और विदेशी लोग हिन्दू धर्म में आ चुके हैं अभी वर्त्तमान में  चाइनीज अभिनेता और फ्रांस के दंपति ने हिन्दू धर्म अपना लिया है।
Hong Kong actor Jackie Hung and French couple adopted Hindu religion

🚩अभिनेता ने अपनाया हिन्दू धर्म:-
हांगकांग से आए प्रसिद्ध अभिनेता और मार्शल आर्ट के कलाकार जॅकी हुंग ने कैंटोनमेंट स्थित एक होटल में पत्रकारों से कहा कि हांगकांग के बाद भारत की प्राचीन नगरी काशी मेरा पसंदीदा शहर है । मेरी इच्छा है कि काशी विश्वनाथ मंदिर जैसा एक शिव मंदिर हांगकांग में बनवाऊं । जल्द ही अपना नाम भी बदलकर हिंदू रीति रिवाज के आधार पर रखूंगा ।
🚩उन्होंने बताया कि आज से चार वर्ष पहले मैं चेन्नई में किसी कार्यवश गया था । वहीं पर एक शिव मंदिर में अपने मित्र के साथ गया । वहां पर मुझे ऐसी शांति का अनुभव हुआ जो इससे पहले कभी नहीं मिली थी । उसके बाद मैने हिंदू धर्म को स्वीकार कर लिया । उसके बाद मेरे जीवन शैली और दृष्टिकोण में काफी बदलाव आया है ।
🚩फ्रांस के दंपति ने अपनाया हिन्दू धर्म:-
फ्रांस के रहने वाले पेशे से डिजाइनर मेथियस और उनकी पत्नी डेनियला ने हिंदू धर्म अपनाया । दीक्षा प्राप्त करने के बाद उनका नाम और गोत्र परिवर्तित हुआ । मैथियास परमानंद नाथ और डेनियला आनंदमयी मां बन गईं ।
🚩डेनियला ने बताया कि वे कुंडलिनी साधना के बाद बहुत ऊर्जा महसूस कर रही थीं तब उन्होंने और उनके पति ने शिव शक्ति मंत्र की दीक्षा लेने की इच्छा गुरुदेव से प्रकट की । उन्होंने बताया कि इस दीक्षा को ग्रहण करने के बाद वह खुद को बहुत ज्यादा ऊर्जावान महसूस कर रही हैं । ईश्वर की साधना कर इस मंत्र का जाप करेंगी जिससे उनका और समस्त विश्व का कल्याण हो और विश्व में शांति हो ।
🚩वागीश शास्त्री ने बताया कि शिव शक्ति मंत्र की साधना प्रसुप्त शक्ति को जागृत करती है और मस्तिष्क विचारों से भर जाता है इससे व्यक्ति को ऊर्जा प्राप्त होती है और नए-नए विचार आते हैं । जो साधक शिव शक्ति मंत्र दीक्षा लेने के बाद निश्चित संख्या में जप करते हैं और उसका दशांश हवन करते हैं उनको वांछित फल की प्राप्ति हो सकती है ।
🚩विश्व भर से लोग अध्यात्म, योग और तंत्र की साधना प्राप्त करने मेरे पास वर्षों से आते हैं और कुंडलिनी साधना में व्यक्ति अपने चक्रों को जागृत करता है । शिव शक्ति मंत्र साधना से साधक अपने इष्ट को प्रसन्न करता है और वांछित फल प्राप्त कर सकता है ।
🚩वागीश शास्त्री ने यह भी बताया कि परंतु बिना गुरु के दीक्षा के किसी भी मंत्र का प्रभाव नहीं मिलता है । आजकल व्यक्ति बिना गुरु के निर्देशन में कुंडलिनी साधना करते हैं वह उनके लिए उपयुक्त नहीं है और बिना गुरु के निर्देशन में साधना करना उनके लिए घातक हो सकता है । सभी व्यक्तियों को किसी सिद्ध गुरु के निर्देशन में ही कुंडलिनी साधना करनी चाहिए ।
🚩भारतीय संस्कृति एक दिव्य संस्कृति है । इसमें प्राणिमात्र के हित की भावना है । हिन्दुत्व को साम्प्रदायिक या आतंकवादी कहने वालों को यह समझ लेना चाहिए कि हिन्दुत्व अन्य मत पंथों की तरह मारकाट करके अपनी साम्राज्यवादी लिप्सा की पूर्ति हेतु किसी व्यक्ति विशेष द्वारा निर्मित नहीं है ।
🚩हिन्दुत्व एक व्यवस्था है मानव में महामानव और महामानव में महेश्वर को प्रगट करने की । यह द्विपादपशु सदृश उच्छृंखल व्यक्ति को देवता बनाने वाली एक महान परम्परा है । ‘सर्वे भवन्तु सुखिनः’ का उद्घोष केवल इसी संस्कृति के द्वारा किया गया है इसलिए आज हिन्दू धर्म अपना रहे हैं ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »