Press "Enter" to skip to content

शायद हिंदूओं को यह बात पता भी नहीं होगी, कपिल मिश्रा ने रखी ये मांग

21 जनवरी  2019

🚩दिल्ली के विधायक कपिल मिश्रा ने सरकार के सामने चार मांगे रखी हैं जिसे जानकर हर भारतवासी बोल उठेगा कि सरकार को यह कार्य अवश्य करना चाहिए ।
🚩विधायक कपिल मिश्रा ने पहली मांग रखी है कि हिंदुओं के स्तर को बढ़ा कर अल्पसंख्यक को के बराबर किया जाए । ” equal right for hindus in india” हिंदुओं को भी समान अधिकार दो ये पहली मांगे है । हमें भेदभाव न रखो जैसे गोरे और काले का भेदभाव अफ्रीका में किया जाता था । गोरे बहुत कम थे काले ज्यादा थे उसके बावजूद भी गोरों को कुछ विशेष अधिकार प्राप्त थे । उनको जो अल्पसंख्यक अधिकार प्राप्त थे वो बाहर का समाज को नहीं थे । ऐसी स्थिति भारत में आ चुकी है बहुसंख्यक हिंदू के अधिकार बहुत कम है । अल्पसंख्यक समाज के सामने । तो हमारी पहली मांग है बहुत सिंपल मांग है बराबरी की मांग equality (समानता) की मांग । 
🚩हमारे समाज के एक श्रद्धेय स्वामी महाराज है । वो बोले कि मैं हिन्दू हूं और मैं बैठा हुँ । एक मुस्लिम और एक क्रिस्चियन आ जाये मेरे सामने । और मेरे से लड़ने लगे वाद विवाद करने लगे और मैं बोलू कि मुझे वाद विवाद की कोई इच्छा नहीं है, वो मुझे मारने लगे तो देखते है पुलिस सरकार बोले कि ये minority है ।  और ये आपकी आपस में धर्म की है तो हम बीच में नहीं आएंगे । मैं प्रतीक के तौर पर बोल रहा हूँ । कोई खड़ा है बुद्ध के बंदे को मार रहा है, कुचल रहा है, तो उसमें सरकार का क्या है धर्म निरपेक्ष सरकार उसमें interfere नहीं करेगी जो हो रहा है उसे होने देगी । कहीं धर्म परिवर्तन अगर कुछ मिशनरी कर रही हैं तो सरकार धर्म परिवर्तन में interfere नहीं करेगी, सरकार कहती है कि लोगों की मर्जी है । लोगो की मर्जी है अगर वो अपना धर्म  बदलते हैं तो  । किस तरीके से बदला जा रहा है दबाव में प्रलोभनों में अत्याचार में वो सरकार interfere नहीं कर रही वहाँ सरकार धर्म निरपेक्ष है, लेकिन आपने वहां उनका हाथ रोक लिया और उनको 2 लगाने की कोशिश की तो अब सरकार की भूमिका बदल गई अब सरकार minority protection की भूमिका में आ गई  । अब सरकार आपको रोक लेगी और आपके खिलाफ कानूनी कार्यवाही करेगी । अगर कोई आपका धर्म परिवर्त्तन करवा रहा है तो उसे वो अधिकार प्राप्त है, लेकिन अगर आपने उसके खिलाफ कार्यवाही की, उसे रोकने की कोशिश की या उसका विरोध किया तो आप धर्म के खिलाफ काम कर रहे हो, बहुत सारी धाराएं और सरकार आपके खिलाफ है और आज ऐसी स्थिति में इस वक्त हम खड़े हैं जहाँ आप बिक तो सकते हैं, पर अगर आपने रोकने की कोशिश की या विरोध करने की कोशिश की तो minority को protection करने के लिए तुरंत सरकार आ जाएगी । और ये बहुत अजीब सी विडंबना है । इसको रोकना जरूरी है । क्रमशः….
🚩भारत में बहुसंख्यक हिंदूओं के लिए संविधान ऐसा बनाया है कि हिंदू स्वतंत्र नहीं बल्कि परतन्त्र बना हुआ है, चाहकर भी वे अपने लिए या धर्म के लिए खुलकर कार्य नहीं कर सकता है जो एक भयावह चिंताजनक बात है, सरकार को संविधान में बदलाव करना चाहिए और समानता का अधिकार देना चाहिये ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
 🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
 🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
 🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
 🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

One Comment

  1. Ghanshyam das godwani Ghanshyam das godwani January 21, 2019

    भारत में बहुसंख्यक हिंदूओं के लिए संविधान ऐसा बनाया है कि हिंदू स्वतंत्र नहीं बल्कि परतन्त्र बना हुआ है, चाहकर भी वे अपने लिए या धर्म के लिए खुलकर कार्य नहीं कर सकता है जो एक भयावह चिंताजनक बात है, सरकार को संविधान में बदलाव करना चाहिए और समानता का अधिकार देना चाहिये ।

Comments are closed.

Translate »