Press "Enter" to skip to content

वोटबैंक के लिए नेता बसा रहे हैं अवैद्य बांग्लादेशी, देश के लिए है खतरा

11 जनवरी  2019
🚩नेता वोटबैंक के लिए कुछ भी कर सकते हैं, चाहे देश की सुरक्षा खतरे में चली जाए, आतंकवादी हमले कर दें, हिन्दुओं की सम्पति पर कोई अधिकार कर ले या देश में जनसंख्या बढ़ जाए, इससे नेताओं को कोई लेना-देना नहीं होता है, कई नेता अच्छे भी हैं, लेकिन चूँकि भारत में भ्रष्ट नेताओं की संख्या अधिक है, जिसके कारण ईमानदार नेता भी सहीं से कार्य नहीं कर पाते हैं ।

🚩भारतवासी नेता भी अधिकतर देशहित के निर्णय, न लेकर, वोटबैंक कैसे बढ़े इस बारे में ही सोचते हैं तो फिर विदेश से आई सोनिया गांधी तो देशहित के लिए सोच ही कैसे सकती है ?
🚩आज देश में जनसंख्या बढ़ रही है, उसकी परेशानी बढ़ रही है ऊपर से करोड़ों बांग्लादेशी अवैध रूप से भारत में बस गए हैं, जिससे भारत को और भी अधिक परेशानी उठानी पड़ रही है ।
🚩विपक्ष एक बार फिर राज्यसभा में सरकार के सामने तनकर खड़ा हो गया तथा विपक्ष ने नागरिकता संशोधन विधेयक को पास होने से रोक दिया । अब यह विधेयक अगले सत्र में पेश किया जा सकता है । इस बिल के पास होने के बाद पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान से पीड़ित होकर भारत आने वाले गैर मुस्लिम(हिन्दू, सिख, ईसाई, जैन, बौद्ध, पारसी) हिंदुस्तान की नागरिकता प्राप्त कर सकेंगे तथा इस बिल के मुताबिक बांग्लादेशी घुसपैठिए को देश छोड़कर जाना होगा, लेकिन मजहबी कट्टरपंथी तथा तथाकथित सेक्यूलर दल इस बिल के खिलाफ है । ये जानने के बाद भी कि बांग्लादेशी घुसपैठिये देश की सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा बन चुके हैं, देश को खोखला कर रहे हैं, इतना होने पर भी विपक्ष राजनीति से बाज नहीं आ रहा है ।
🚩कब-कब बने चुनौती ?
2012 में असम के कोकराझार में वहां के स्थानीय बोड़ो आदिवासी और बांग्लादेशी मुस्लिम घुसपैठियों के बीच जबरदस्त सांप्रदायिक झड़प के कारण 77 लोगों की मौत हो जाती है । इस घटना के बाद से ही असम में घुसपैठियों के प्रति अविश्वास का माहौल तैयार होता है और इस मुद्दे का बहुत तेज़ी से राजनीतिकरण होता है ।
🚩इसी साल रोहिंग्या मुसलमानों और कोकराझार के दंगों में मरने वाले मुसलमानों को लेकर मुंबई के आज़ाद मैदान में बांग्लादेशी मुसलमानों के द्वारा एक रैली का आयोजन किया जाता है जिसमें बांग्लादेशी मुसलमानों की हिंसक भीड़ पुलिस कर्मचारियों को दौड़ा- दौड़ा कर मारती है । 
🚩महिला सिपाहियों के साथ बदसलूकी की जाती है और करोड़ों रुपये की सरकारी सम्पति को नुकसान पहुँचाया जाता है । इस बीच बंगाल और असम में कई बांग्लादेशी घुसपैठियों के तार प्रतिबंधित इस्लामिक संगठन ‘हूजी’ से जुड़े होने के मामले सामने आते हैं । इस्लामिक स्टेट ने भी भारत में अपने प्रभाव को बढ़ाने के लिए घुसपैठियों को अपने एजेंडे में शामिल होने का न्यौता दिया था ।
🚩हिन्दुस्तान सरकार के बॉर्डर मैनेजमेंट टास्क फोर्स की वर्ष 2000 की रिपोर्ट के अनुसार 1.5 करोड़ बांग्लादेशी घुसपैठ कर चुके हैं और लगभग तीन लाख प्रतिवर्ष घुसपैठ कर रहे हैं । हाल के अनुमान के मुताबिक देश में 4 करोड़ घुसपैठिये मौजूद हैं । पश्चिम बंगाल में वामपंथियों की सरकार ने वोटबैंक की राजनीति को साधने के लिए घुसपैठ की समस्या को विकराल रूप देने का काम किया ।
🚩तीन दशकों तक राज्य की राजनीति को चलाने वालों ने अपनी व्यक्तिगत राजनीतिक महत्वाकांक्षा के कारण देश और राज्य को बारूद की ढेर पर बैठने को मजबूर कर दिया । उसके बाद राज्य की सत्ता में वापसी करने वाली ममता बनर्जी बांग्लादेशी घुसपैठियों के दम पर जिहादी दीदी का तमगा लेकर मुस्लिम वोटबैंक की सबसे बड़ी धुरंधर बन गईं ।
🚩हाल ही में बंगाल के कई इलाकों में हिन्दुओं के ऊपर होने वाले सांप्रदायिक हमलों में बांग्लादेशी घुसपैठियों का ही हाथ रहा है । 2014 में पश्चिम बंगाल के सीरमपुर में नरेंद्र मोदी ने कहा था कि चुनाव के नतीजे आने के साथ ही बांग्लादेशी ‘घुसपैठियों’ को बोरिया-बिस्तर समेट लेना चाहिए । 2016 में असम में भाजपा की सरकार आने के बाद राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर को सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में अपडेट किया जा रहा है । लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार हिंदुत्व के मोर्चे पर किये गए अपने वादों का संज्ञान लेना चाहती है । बांग्लादेशी मुस्लिमों की एक बड़ी आबादी ने देश के कई राज्यों में जनसंख्या असंतुलन को बढ़ाने का काम किया है जिसके कारण देश में कई अप्रिय घटनाएं घटित हुई हैं । इसलिए इस समस्या का तुरंत निष्पादन जरूरी है ।
🚩बांग्लादेशी भारत में उपद्रव करते हैं, आतंकवादी गतिविधियां पाई गई हैं । देश की सुरक्षा को बंगलादेशी घुसपैठियों से खतरा है । देश की सुरक्षा के मद्देनजर इन्हें शीघ्र बाहर करना होगा ।
🚩भारत में अवैध घुसपैठियों को, अल्पसंख्यक की सारी सुविधाएं दी जा रही है, दूसरी ओर बांग्लादेश में बस रहे हिंदुओ पर, भीषण अत्याचार किया जा रहा है |
🚩बांग्लादेश माइनॉरिटी वॉच के अध्यक्ष अधिवक्ता #श्री रवींद्र घोष ने कहा कि बांग्लादेश जब से स्वतंत्र हुआ है, तब से आज तक वहां 15 लाख से अधिक हिन्दुओं की हत्या की गई है । स्वतंत्रता के पश्‍चात जब से वहां के शासन ने, संविधान में इस्लाम धर्मानुसार, आचरण करने की धारा घुसाई, तब से निरंतर वहां के हिन्दुओं की, धार्मिक स्वतंत्रता के अधिकारों को नकारा जा रहा है । वहां के हिन्दुओं को किसी प्रकार का न्याय अथवा अधिकार नहीं मिलता, अपितु हिन्दुओं की भूमि बलपूर्वक दबा ली गई ।
🚩हिन्दू लड़कियों का अपहरण कर बलात्कार किए जाते हैं । हिन्दुओं के घर-दुकाने जला दिए जातें हैं, सम्पति हड़प ली जाती है,  विद्यालय के बुद्धिमान हिन्दू विद्यार्थियों को मारा जाता है । अभी तक #बांग्लादेश में #3 सहस्र 336 मंदिर तोड़े गए हैं । ऐसे विविध प्रकार से हिन्दुओं पर #अत्याचार और अन्याय किया जाता है तथा उस प्रत्येक घटना के विरोध में #‘बांग्लादेश मायनॉरिटी वॉच’ संघर्ष कर रहा है । 
🚩अखण्ड भारत को जिहादियों ने खण्ड-खण्ड कर दिया, पाकिस्तान, अफगानिस्तान, बांग्लादेश बना दिया, उसमें पहले से ही स्थायी रूप से रह रहे हिन्दुओं पर भीषण अत्याचार किया जा रहा है, वहीं दूसरी ओर भारत मे अवैध रूप में बस रहे, बंगलादेशीयों को सारी सुख-सुविधाएं दी जा रही है, यह कहाँ का न्याय है ?
बंगलादेशीयों और रोहिंग्याओं को शीघ्र बाहर करना होगा, तभी देश की सुरक्षा बनी रहेगी ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
 🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
 🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
 🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
 🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »