Press "Enter" to skip to content

विदेशी फंडिग से धर्मान्तरण हो रहा है व सुप्रीम हिन्दू विरोधी फैसले देती है : कपिल मिश्रा

22 जनवरी  2019
🚩भारत जो कि एक धर्म परायण देश रहा है उसी देश में धर्म को, यहाँ की संस्कृति को नष्ट करने के लिए भारत देश में विदेश से अत्यधिक मात्रा में फंडिग आ रही है जिसकी वजह से देश विरोधी और हिन्दू धर्म विरोधी गतिविधियां लगातार चल रही हैं इसपर रोक लगाने के लिए दिल्ली के विधायक कपिल मिश्रा ने मांग की है ।
🚩कपिल मिश्रा ने बताया कि F.T.R.A (Financial Transaction Reporting Act) के तहत फॉरेन से मदद के लिए जो पैसे आते हैं बंद करने की हम मांग कर रहे हैं । हमारा यह मनना है कि भारत अब इतना  सक्षम देश बन चुका है कि यहाँ अनाथालय बनवाने के लिए, अस्पताल चलाने के लिए या कुछ रोगीयों की सेवा करने के लिए देश से पैसा इक्कठे किए जा सकते हैं। ये विदेशी संस्थाएं तथाकथित सामाजिक कामों या धार्मिक कामों के लिये जो पैसे देती हैं, उसे हमें तुरंत रोक देना चाहिये । उसमें हो सकता है कि कुछ पैसे भारत में हिन्दू संस्थाओं के लिए भी आ रहे हों, उसपर भी रोक लगनी चाहिए, साफ तौर पर कहें तो F.T.R.A. पूरी तरह से बंद होना चाहिए ।
🚩भारत अब इतना सक्षम राष्ट्र बन चुका है कि वह दूसरों को भी मदद दे सकता है । अभी इसकी  जरूरत नहीं है । इसमें(डॉक्यूमेंट दिखाते हुए) हमने डेटा के साथ टेबल अगर दिख रही होगी तो राजिस्ट्रेशन की टेबल नंबर 12, जो फण्ड आ रहा है हमारे देश में, उसमें से 30% पैसा जो है वो सीधे सीधे क्रिश्चन धर्म की संस्थाओं का है, जिसके लिए वो बोल रहे हैं ईसाई धर्म के लिए ये 30% पैसे हैं । उसके बाद मात्र 4% पैसे हिन्दू तथा सिख धर्म के लिये हैं । और 65% पैसे जो कि विशेषतः किसी धर्म के लिये नहीं आ रहा है, वो आ तो सामाजिक कार्यों के नाम से रहे हैं, लेकिन ये पैसे देने वाली संस्थाएं जोकि पश्चिम देश में बैठी हैं वो क्रिश्चन संस्थाएं है । तो 2 तरह से एक तो सीधे-सीधे भारत में क्रिश्चन ऑर्गेनाइजेशन को मिलने वाला पैसा है वो 30% है और बाकी बचे 65% पैसे भारत में जो क्रिश्चन संस्थाओं को सीधे तौर पर तो नहीं मिल रहा, लेकिन क्रिश्चन संस्थाओं द्वारा भेजा जा रहा है विदेशों से । तो ये 95% फण्ड है जो विदेशो से आ रहा है तथा 4% फण्ड ऐसा है जो हिन्दू, सिख और बौद्ध धर्म के लिये आ रहा है । ये टोटल फण्ड लगभग 18000 करोड़ रुपए हैं । जिसमें से 12000 करोड़ रुपये हर साल सीधे-सीधे धार्मिक कार्यों के लिये या यूँ कहें कि क्रिश्चन धार्मिक कार्यों के लिये देश में आ रहा है । और इस पैसों से स्कूल चलाये जा रहें है, अस्पताल चलाये जा रहें है,  अनाथालय चलाये जा रहें है । और हर उस bed के अंदर interfere किया जा रहा है जिसमें हम कह रहे है यहाँ हमें जरूरत है ।
🚩लेकिन अगर इसी जगह आपकी हिन्दू संस्था अगर खड़ी हो (मैं टीम संस्था से मिला) अगर वो चाहे कि मैं एक अस्पताल चलाऊ और उस इलाके में एक क्रिश्चन मिशनरी का अस्पताल चल रहा है । तो आप उसके बराबर चला ही नहीं सकते उसको जिस प्रकार का पैसा आ रहा है, आपके अंदर जितनी भी समर्पण हो सेवा भावना हो आप गरीबों की, जरूरत मंदों की सेवा करना चाहते हो लेकिन फिर भी आप उसके बराबर चला ही नहीं पाओगे क्योंकि उस पैसे से आप नहीं टकरा पाओगे और देखा जाए तो  अंत में उसका उपयोग धर्म परिवर्तन के लिये या धर्म विरोधी कार्यों में किया जाता है । इसलिए हमारी दूसरी मांग है FTRA को तुरंत बंद किया जाए ।
🚩यही वो पैसा है जिससे आज सुप्रीम कोर्ट में चल रही है धर्म के खिलाफ आज क्रियाएँ चल रही हैं | भले आज बात दिल्ली की हो, सबरीमाला की हो आदि आदि लेकिन इन सब के पीछे जो फंडिंग है वो F.T.R.A. से आनेवाली ही है | उनके ही लोग किसी संस्था बोर्ड में डायरेक्ट बन के बैठे है जिस संस्था में पैसा आ रहा है 100 करोड़, 50 करोड़ और उन्हीमें से कोई हस्तक्षेप कर रहा है सुप्रीम कोर्ट में, परंपराओं में | वरना क्या तमिलनाडु में 10,000 आदमी जिस परंपरा को देखने नहीं आते वहाँ एक दिन वो दौड़ होती है उसमें कुछ लोगों को चोट लगती है उसमें सुप्रीम कोर्ट सुनवाई करता है जबकि रोज इस देश में तो हिन्दुओं के बड़े-बड़े अधिकारों के लिए भी कोई सुनवाई नहीं है, साफ तौर पर  उनका लक्ष्य हिन्दू रक्षा नहीं है उनका लक्ष्य धार्मिक परम्परा पर हमला करना है ।
🚩उसकी फंडिंग विदेशी पैसों से आ रही है । ये धर्मपरिवर्तन के लिये इस्तेमाल हो रही है । ये भारत की सभ्यता की जो हमारे केंद्र प्रतीक बने हुए हैं, दीवाली में पटाखे मत जलाओ, सबरीमाला में किसीको भी भेज दो | वो चुन-चुन के हमारी एक-एक मान्यता पर पूरी प्लानिंग करके आघात कर रहे हैं । आप में से सभी लोग क्योंकि जानते भी है समझते भी है तो आपको उसको डिटेल में जाने की जरूरत नहीं है आपको मालूम है कि कहाँ से सारी चीजें चलती हैं । तो हमारी एक मांग ये है कि F.T.R.A. को बंद होना चाहिये।
🚩भारत में ईसाई मिशनरियां विदेशी फडिंग से भारत में धर्मान्तरण का धंधा जोरो शोरो से चला रही हैं इसके कारण हिंदूओं की जनसंख्या घटती जा रही और मीडिया हिन्दू विरोधी एजेंडा चला रही है ये अत्यंत चिंताजनक स्थिति है, इसपर रोक लगाने के लिए विदेश की फंडिग बंद करना जरूरी है ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
 🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
 🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
 🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
 🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
Translate »