Press "Enter" to skip to content

यह बात मीडिया आपको नहीं बताएगी, पर जानना अत्यंत आवश्यक है

29 मई 2019
www.azaadbharat.org
🚩श्रीलंका में एक स्थान है करुनेगला ! यहाँ पर एक काफी पुराना और प्रतिष्ठित अस्पताल है, “करुनेगला टेक्निकल हॉस्पिटल” । पूरे शहर में यह इकलौता अस्पताल है तो यहां इलाज करानेवालों की संख्या भी अधिक है । चूंकि करुनेगला, सिंहली और तमिल हिन्दू बाहुल्य शहर है तो ज्यादातर मरीज भी इन्हीं समुदायों के होते हैं । कुछ परिवार मुस्लिम भी हैं। चूंकि अस्पताल प्रतिष्ठित है, स्पेशलिस्ट डाक्टर भी इस अस्पताल में अधिक हैं तो दूर-दूर से भी मरीज़ आते हैं !

🚩इसी अस्पताल के स्त्री रोग विभाग के अध्यक्ष अस्वाभाविक रूप से डाक्टर मोहम्मद सीगु सियाब्दीन सोफी हैं जोकि एक गाइनकॉलजिस्ट हैं एवं 5 वक्त के नमाज़ी मुसलमान हैं । कुछ दिनों से यह नोटिस किया जा रहा था कि डॉक्टर मोहम्मद सियाब्दीन, मुस्लिम स्त्रियों का नसबंदी ऑपरेशन नहीं करते थे औऱ उन्हें नसबंदी के नुकसान गिनाते थे ! अपनी चेष्टा में वह सफल भी हो जाते थे । अस्वाभाविक रूप से डाक्टर साहब के पास कोलंबों और करुनेगला जैसी जगहों पर 17 प्रॉपर्टी थीं, जिसकी कीमत तकरीबन 400 करोड़ है । खबर यह है कि यह धन उसे सऊदी अरब से प्राप्त होता था । इसी फंड से श्रीलंका को मोमिन बहुल बनाने  का प्रयास उन्होंने किया ।
🚩आइये जानते हैं कि क्या थे वे प्रयास ?
करुनेगला के उसी अस्पताल में एक सिंहली गर्भवती नर्स को प्रसव का दर्द हुआ तो डॉक्टर मोहम्मद सियाब्दीन के पास पहुँची । डाक्टर ने ऑपरेशन की सलाह दी । नर्स को तुरन्त एनस्थीसिया दिया गया तथा ऑपरेशन किया गया । जब होश आया तो पता चला कि भ्रूण जीवित नहीं पाया गया । कुछ दिन बाद नर्स अस्पताल से छुट्टी पाकर घर आयी तो उसे अपने शरीर में कुछ अजीब समस्याओं से दो-चार होना पड़ा ! अल्ट्रासाउंड हुआ तो पता चला कि नर्स का यूटेरस (बच्चेदानी) निकाला जा चुका है । डाक्टर मोहम्मद सियाब्दीन से पुलिस ने पूछताछ की तो पता चला कि नर्स की बच्चेदानी, डाक्टर सियाब्दीन ने बगैर किसी को संज्ञान में लिए चुपके से निकाल दी है । आप खुद समझ सकते हैं कि गर्भस्थ भ्रूण का क्या किया गया होगा?
🚩जब यह खबर स्थानीय अखबार में छपी और चैनलों में चली तो श्रीलंका में तूफान सा आ गया क्योंकि सैकड़ों महिलाओं ने इसी अस्पताल में डॉक्टर मोहम्मद सियाब्दीन से गर्भ संबंधी इलाज कराया था, वो आक्रोश में आकर अस्पतालों की ओर दौड़ पड़ीं । अस्पतालों में इन सिंहली और हिन्दू महिलाओं को चेक किया गया तो पता चला कि डाक्टर मोहम्मद सियाब्दीन ने सबकी आपराधिक रूप से बगैर जानकारी दिए प्रसव के दौरान नसबंदी कर दी थी ! कड़ी पूछताछ में डाक्टर सियाब्दीन ने बताया कि पिछले 15-20 सालों में उसने ऐसे लगभग 4000 ऑपरेशन किये हैं, जिसमें नसबंदी करके सिंहली और हिन्दू औरतों को बांझ बनाया गया था ! इस डाक्टर के कम्प्यूटर और लैपटॉप से भी काफी डेटा बरामद हुआ है।
            
🚩अब चीजें खुल कर बाहर आ रही हैं । डाक्टर मोहम्मद सीगु सियाब्दीन साफी आतंकी संगठन ‘तौहीद जमात’ से जुड़ा है । यह इस्लामिक संगठन ISIS से सीधे जुड़ा है और श्रीलंका में अभी चर्चों और होटल में हुए बम विस्फोटों में 400 लोगों की हत्या के लिए ज़िम्मेदार है ! पिछले 20 वर्षों में हज़ारों सिंहली और हिन्दू औरतों को नसबंदी और यूटेरस निकाल कर बांझ बनाना यह आज तक का सबसे घिनौना अपराध इसलिए भी है क्योंकि डाक्टर मोहम्मद सियाब्दीन ने उन हज़ारों बच्चों की हत्या कर दी,जो पैदा होने वाले थे । इस डॉक्टर ने परिवारों की पीढ़ियां की पीढ़ियां खत्म कर दीं । जिसका प्रभाव अनंतकाल तक चलता रहेगा ।
🚩यह जिहाद अमेरिका में WTC पर हमला कर 3000 लोगों को मारने से भी हज़ार गुना बड़ा है ! फ्रांस में एक जेहादी द्वारा ट्रक से कुचल कर 90 लोगों को मार देने जैसा अपराध तो इसके सामने कुछ भी नहीं। इस अपराध के आगे मुझे सारे अपराध बौने लगे क्योंकि मरीज़ डाक्टर को भगवान मानता है, वही डाक्टर उसकी संतानों और आगे आने वाली पीढ़ियों की प्रत्याशा खत्म कर दे, वो भी सिर्फ इसलिए कि काफिर को जीने का हक नहीं इसलिए उनमें भ्रूण बनने की संभावना को नसबंदी और बच्चेदानी निकाल कर समाप्त कर दिया जाए । जानकारियां और भी आ रही हैं मगर इस विषय पर लिखने में कलम अपना हौसला तोड़ रही है। साभार : पवन सक्सेना जी
🚩इस लेख से हिंदुओं को सावधान होने की आवश्यकता है, आपके आसपास ऐसे डॉक्टर हों या कोई लव जिहाद के कार्य कर रहे हों तो हमे सावधान रहना चाहिए अन्यथा आगे चलकर हिन्दू ही हिंदू के पतन का कारण बनेंगे ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
Translate »