Press "Enter" to skip to content

भारत में टिकटोक पर क्यों प्रतिबंध लगाना चाहिए?

23 मई 2020
 
🚩टिकटोक एप्लिकेशन ने आज केवल भारतीय युवावर्ग को ही नहीं बल्कि विश्वभर के युवावर्ग को अपना शिकार बनाया है। लगभग 141 देशों में यह एप्लीकेशन उपलब्ध है और अकेले भारत में इसके 120 मिलियन उपयोगकर्ता हैं। इस एप्लीकेशन के अन्तर्गत युवावर्ग एक संक्षिप्त वीडियो (Short Video) बनाते हैं और उसे विश्वभर में फैलाते हैं। युवाओं का मानना है कि यह मनोरंजन का एक अच्छा साधन है।
 
🚩क्या आप जानते हैं कि इस चीनी एप्लीकेशन पर मुस्लिमों द्वारा जिहाद के समर्थन में वीडियो बनाकर किस प्रकार षड्यन्त्र रचा जा रहा है? वर्ष 2019 में TikTok प्रोफाइल ‘Team 07’ (मुस्लिम युवाओं द्वारा संचालित) ने एक वीडियो प्रसारित किया था झारखण्ड में तबरेज अंसारी को चोरी के संदेह में पीटने पर इन लोगों ने कहा था- “यदि अंसारी के बच्चे बड़े हुए और अपने पिता की मौत का बदला लिया तो यह नहीं कहा जाना चाहिए कि एक मुस्लिम एक आतंकवादी है।” यद्यपि मैं भी भीड़ द्वारा किसी की हत्या का समर्थन नहीं करता क्योंकि दण्ड देने का काम देश की पुलिस और न्याय-व्यवस्था का है, लेकिन किसी वीडियो या अन्य साधनों के जरिये समाज में हिंसा को बढ़ावा देने का पूर्ण रूप से मैं विरोध करता हूं। इन युवाओं के खिलाफ सरकार द्वारा कानूनी कार्यवाही भी की गई थी और बाद में इन लोगों ने अपने वीडियो के लिए जनता से माफी मांगी थी। उन्हीं दिनों ‘बिग बॉस’ कंटेस्टेंट और एक असफल अभिनेता ‘अजाज खान’ ने ‘Team 07’ के इस वीडियो के समर्थन में मुस्लिमों को बाहर निकलने और दंगा करने के लिए एक वीडियो के माध्यम से भड़काया था। बाद में वह अभिनेता मुम्बई पुलिस द्वारा गिरफ़्तार किया गया। इसके बाद मुस्लिम वर्ग ने TikTok पर हिन्दू लड़कियों के प्रति शारीरिक हिंसा, एसिड हमलें, हिन्दुओं की आध्यात्मिकता पर सवाल, कोरोना वायरस से बचाव करते पुलिसकर्मियों पर पत्थरबाजी, क्वारंटाइन में चिकित्सकों पर थूकना और नर्सों के साथ बदसलूकी आदि घृणित कार्यों के सम्बन्ध में वीडियो डालने शुरू कर दिये।
 
🚩TikTok पर कई हिन्दू लड़कियां मुसलमानों के इस जिहादी षड्यन्त्र में फंसी हैं, जिसमें स्क्रीन-शेयरिंग के जरिये हिन्दू लड़कियों को फंसाया जा रहा है। यह षड्यन्त्र मुसलमानों ने विशेषकर हिन्दूवर्ग को ही फंसाने के लिए रचा है। इन लोगों का ध्येय अपने जिहाद को गति देना है। मुसलमानों द्वारा हिज़ाब, लव-जिहाद, शारीरिक उत्पीड़न, यौन-सम्बन्धी जैसे घिनौने कार्यों पर आधारित वीडियो बनाकर हिन्दूवर्ग को यह दिखाने का प्रयत्न किया जा रहा है कि इस्लामी मज़हब में सब तरह के कार्यों की छूट है, इसलिए यह श्रेष्ठ है। जरा आप विचार कीजिए कि जिस मज़हब में कभी आतंकवाद के खिलाफ कोई आवाज नहीं उठाई जाती, जिनके ग्रन्थों में पत्नी के अलावा रखैल रखने की इजाज़त है, मनुष्य के अलावा जीवों से संभोग करने का वर्णन है, मुसलमानों को छोड़कर अन्य मत और धर्म के अनुयायियों के क़त्ल करने का हुक़्म है, निरपराध जीव-जन्तुओं की हत्या का नियम है, जिनके मज़हब का संस्थापक खुद एक बलात्कारी हो, भला वह मज़हब कभी श्रेष्ठ कैसे हो सकता है?
 
🚩कोरोना वायरस के चलते इन दिनों इस्लाम के ठेकेदारों ने क्या-क्या हरकतें की थीं, यह बात शायद ही किसी हिन्दू या किसी मत के लोगों से छिपी हो। इसके बावजूद हिन्दूवर्ग मुसलमानों के बनाये षड्यन्त्र में फंस रहा है। सबसे बड़ी और विचारणीय बात तो यह है कि TikTok पर मुस्लिमों के धर्म-सम्बन्धी वीडियो एवं अन्य धर्मों की आलोचना करने को हिन्दू-युवावर्ग बढ़ावा क्यों दे रहा है? इसका सीधा-सा कारण यही है कि उन युवाओं के अभिभावक अपने बच्चों पर ध्यान नहीं दे रहे हैं और उनके बच्चे TikTok रूपी वायरस से ग्रसित होते जा रहे हैं। यदि हिन्दुओं के अभिभावकों ने अपने बच्चों को धर्म और संस्कृति की थोड़ी भी शिक्षा दी होती तो आज ऐसा न होता। न जाने हिन्दूवर्ग को यह बात कब और कैसे समझ में आयेगी कि जो मुसलमान अपने अल्लाह के न हो सके, वह किसी और मनुष्य के होंगे? अतः मुसलमानों द्वारा बनाये ऐसे वीडियो के चलते TikTok भारत में प्रतिबंधित होना चाहिए। – प्रियांशु सेठ
 
🚩टिकटॉक पर फेमस होने के लिए कुछ लोग संस्कार हीन ओर अश्लीलता भरा अथवा राष्ट्र विरोधी वीडियो बनाकर भी अपलोड कर देते है। कुछ देशवासी जागरूक भी हो रहे है इसके कारण टिकटोक की रेटिंग काफी कम हो रही हैं। टिकटोक पर देश एवं भारतीय संस्कृति के खिलाफ कुछ वीडियो अपलोड होते है इसलिए देश मे काफी लोग इसको बेन करने की मांग उठा रहे हैं।
 
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
 
🔺 Follow on Telegram: https://t.me/azaadbharat
 
 
 
 
 
🔺 Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJW
More from हिन्दू धर्मMore posts in हिन्दू धर्म »
Translate »