Press "Enter" to skip to content

जानिए भाईदूज पर भाई को यमपाश से कैसे छुड़ाएं..?

8 नवम्बर 2018   
🚩 दीपावली के पर्व का पाँचनाँ दिन भाईदूज भाइयों की बहनों के लिए और बहनों की भाइयों के लिए सदभावना बढ़ाने का दिन है।
🚩 भाईदूज का इतिहास
यमराज, यमुना, तापी और #शनि – ये भगवान सूर्य की संताने कही जाती हैं। किसी कारण से यमराज अपनी बहन यमुना से वर्षों दूर रहे। एक बार यमराज के मन में हुआ कि ‘बहन यमुना को देखे हुए बहुत वर्ष हो गये हैं।’अतः उन्होंने अपने दूतों को आज्ञा दीः “जाओ जा कर जाँच करो कि यमुना आजकल कहाँ स्थित है।”
🚩यमदूत विचरण करते-करते धरती पर आये तो सही किंतु उन्हें कहीं यमुनाजी का पता नहीं लगा। फिर यमराज स्वयं विचरण करते हुए #मथुरा आये और विश्रामघाट पर बने हुए यमुना के महल में पहुँचे।
🚩बहुत वर्षों के बाद अपने भाई को पाकर बहन यमुना ने बड़े प्रेम से #यमराज का स्वागत-सत्कार किया और यमराज ने भी उसकी सेवा सुश्रुषा के लिए याचना करते हुए कहाः “#बहन ! तू क्या चाहती है? मुझे अपनी #प्रिय #बहन की सेवा का मौका चाहिए।”
Know how to rescue brother from Yempash on Brother Duj ..?

🚩#दैवी स्वभाववाली परोपकारी आत्मा क्या माँगे? अपने लिए जो माँगता है, वह तो भोगी होता है, विलासी होता है लेकिन जो औरों के लिए माँगता है अथवा भगवत्प्रीति माँगता है, वह तो भगवान का भक्त होता है, परोपकारी आत्मा होता है। #भगवान #सूर्य दिन-रात परोपकार करते हैं तो #सूर्यपुत्री यमुना क्या माँगती?
🚩#यमराज चिंतित हो गये कि ‘इससे तो #यमपुरी का ही दिवाला निकल जायेगा। कोई कितने ही पाप करे और यमुना में गोता मारे तो यमपुरी न आये ! सब स्वर्ग के अधिकारी हो जायेंगे तो अव्यवस्था हो जायेगी।’
🚩अपने भाई को चिंतित देखकर यमुना ने कहाः ”#भैया ! अगर यह वरदान तुम्हारे लिए देना कठिन है तो आज नववर्ष की द्वितीया है। आज के दिन भाई बहन के यहाँ आये या #बहन भाई के यहाँ पहुँचे और जो कोई भाई बहन से #स्नेह से मिले, ऐसे #भाई को यमपुरी के पाश से मुक्त करने का #वचन को तुम दे सकते हो।”
🚩#यमराज प्रसन्न हुए और बोलेः “बहन ! ऐसा ही होगा।”
🚩#पौराणिक दृष्टि से आज भी लोग बहन यमुना और #भाई यम के इस #शुभ प्रसंग का स्मरण करके #आशीर्वाद पाते हैं व यम के पाश से छूटने का #संकल्प करते हैं।
🚩यह #पर्व भाई-बहन के स्नेह का द्योतक है। कोई बहन नहीं चाहती कि उसका भाई दीन-हीन, तुच्छ हो, सामान्य जीवन जीने वाला हो, ज्ञानरहित, प्रभावरहित हो। इस दिन भाई को अपने घर पाकर बहन अत्यन्त प्रसन्न होती है अथवा किसी कारण से भाई नहीं आ पाता तो स्वयं उसके #घर चली जाती है।
🚩#बहन भाई को इस #शुभ भाव से तिलक करती है कि’मेरा भैया त्रिनेत्र बने।’ इन दो आँखों से जो नाम-रूपवाला जगत दिखता है, वह इन्द्रियों को आकर्षित करता है, लेकिन ज्ञाननेत्र से जो जगत दिखता है, उससे इस नाम-रूपवाले जगत की पोल खुल जाती है और जगदीश्वर का #प्रकाश दिखने लगता है।
🚩#बहन तिलक करके अपने भाई को #प्रेम से #भोजन कराती है और बदले में भाई उसको #वस्त्र-अलंकार, दक्षिणादि देता है। #बहन निश्चिंत होती है कि ‘मैं अकेली नहीं हूँ…. मेरे #साथ मेरा भैया है।’
🚩#दिवाली के तीसरे #दिन आने वाला #भाईदूज का यह पर्व, भाई की बहन के संरक्षण की याद दिलाने वाला और बहन द्वारा भाई के लिए #शुभ कामनाएँ करने का #पर्व है।
🚩इस दिन #बहन को चाहिए कि अपने भाई की दीर्घायु के लिए यमराज से अर्चना करे और इन अष्ट चिरंजीवीयों के नामों का स्मरण करेः मार्कण्डेय, बलि, व्यास, हनुमान, विभीषण, कृपाचार्य, अश्वत्थामा और परशुराम। ‘मेरा भाई चिरंजीवी हो’ ऐसी उनसे प्रार्थना करे तथा मार्कण्डेय जी से इस प्रकार प्रार्थना करेः
मार्कण्डेय महाभाग सप्तकल्पजीवितः।
चिरंजीवी यथा त्वं तथा मे भ्रातारं कुरुः।।
🚩‘हे महाभाग #मार्कण्डेय ! आप सात कल्पों के अन्त तक जीने वाले चिरंजीवी हैं। जैसे आप चिरंजीवी हैं, वैसे मेरा #भाई भी दीर्घायु हो।’
(पद्मपुराण)
🚩इस प्रकार भाई के लिए मंगल कामना करने का तथा #भाई-बहन के पवित्र #स्नेह का पर्व है #भाईदूज।
(संत श्री आशारामजी आश्रम द्वारा प्रकाशित साहित्य “पर्वो का पुंज दीपावली”
से )
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »