Press "Enter" to skip to content

जनता बोली #MeToo ही क्यों #MenToo क्यों नही? #MenToo हुआ गतिमान

26 मई 2019

🚩निर्भयाकांड के बाद बलात्कार सबंधी कानून में संशोधन किया गया लेकिन उसके बाद रेप सम्बंधी मामलों में कमी तो आई नही ऊपर से इस कानून का एक हथियार के रूप में दुरुपयोग होने लगा।

🚩आज महिला वर्ग की सुरक्षा को ध्यान में रखकर कड़े कानून बना दिये गए लेकिन इससे पुरुषों पर जो अन्याय और अत्याचार होने लगा उस पर न्यायालय या सरकार किसी का ध्यान नहीं गया ।

🚩एक सर्वे के अनुसार दुनिया के प्रताड़ित पुरुषों में तीसरे नंबर पर भारतीय पुरुष हैं। आंकड़े बताते हैं कि आत्महत्या करने वालों में पुरुषों की तादाद महिलाओं से दुगनी है। इससे लगता है कि पुरुषों को इज्जत से जीने का हक नहीं रहा है।

🚩जब कोई महिला किसी पुरुष पर रेप का आरोप लगाती है तो बिना अच्छे से जांच पड़ताल किये उस पुरुष को सिर्फ आरोप के आधार पर जेल की सलाखों के पीछे डाल दिया जाता है । उसे जमानत का भी अधिकार नहीं दिया जाता पर सालों बाद अगर वो पुरुष कानून की नजर में निर्दोष पाया जाए तो क्या कानून उसके समय, इज्जत और उन पीड़ादायक दिनों की भरपाई कर पायेगा जो निर्दोष होने के बावजूद उसने जेल में बिताए ???

🚩आज जहां महिलाओं की सुरक्षा के लिए कानून बने हैं वहीं पुरुषों के लिए भी ऐसे कानून बनाये जाएं, जिससे कि कोई भी वर्ग कानून का दुरुपयोग न कर पाए ।

🚩इसी अभियान को लेकर 18 मई 2019 को दिल्ली इंडिया गेट पर पिछले 10 साल से पुरुष अधिकारों के लिए आवाज उठाने वाली सोशल ऐक्टिविस्ट बरखा त्रेहन के नेतृत्व में पुरुष आयोग की मांग को लेकर प्रदर्शन किया गया ।

🚩रविवार को दिनभर ट्विटर ट्रेंड में भी हैशटैग #MenToo_UntoldTruth टॉप में लगातार 8 घंटे तक अपना स्थान बनाये रहा ।

🚩आइये ट्वीट के देखे कुछ नमूने…

1.) ज्योति गंभीर लिखती हैं कि कानून ऐसा होना चाहिए कि कोई भी उसका दुरुपयोग न कर सके पर POCSO एक ऐसा कानून है जिसमें लड़की के बयान को वेद वाक्य की तरह लिया जा रहा है पर इसके कारण निर्दोष पुरुषों का जीवन दांव पर है।
कौन हर्जाना भुगतेगा जब पता चलेगा कि आरोपी को झूठा फंसाया गया था ???
#MenToo_UntoldTruth


🚩2.) अनंतदेव प्रसाद लिखते हैं कि रेप केस के फर्जी मामले बहुत बड़ी तादाद में आ रहे हैं । बदला लेने की भावना से या पैसे ऐंठने की उद्देश्य से कुछ हीन मानसिकता वाली लड़कियां पुरुषों पर फर्जी रेप केस करने लगे हैं।
#MenToo_UntoldTruth

3.) अम्बालिका का कहना है कि कई बार पुरुष बेबसी में आत्महत्या जैसा कदम उठाने को भी मजबूर हो रहे है। इन समस्याओं से निजात पाने के लिए स्वतंत्र पुरूष आयोग का गठन करना ही होगा,,अगर ऐसा नही हुआ तो वो दिन दूर नही जब एक के बाद एक निर्दोष पुरुष फंसते ही चले जायेंगे।
 #MenToo_UntoldTruth


🚩4.) पुष्पेंद्र साहू कहते हैं कि क्या शोषण सिर्फ महिलाओं का ही होता है,पुरुषों का शोषण नहीं होता ?
जहां एक तरफ महिला पुरुष की काबिलियत को एक स्केल पर तौला जाता है दोनो को बराबरी के अधिकार प्राप्त है वहीं दूसरी ओर रक्षा के नियमों व कानूनों में ऐसी असमानताएं क्यों?
#MenToo_UntoldTruth

5.) रेशमा कहती हैं कि अगर हमारी न्यायव्यवस्था में इसी प्रकार का लैंगिक भेदभाव चलता रहा तो वो दिन दूर नहीं जब लोगों का इस पर से विश्वास उठना शुरू हो जायेगा #MenToo_UntoldTruth

🚩6.) ममता यादव लिखती हैं कि #MenToo_UntoldTruth मुहिम समय की मांग।
हिन्दू संत भी नहीं रहे अछूते। संतों पर भी झूठे इल्जाम लगाकर फंसाया गया है। Sant Shri Asaram Bapu Ji और Narayan Sai Ji पर झूठे इल्जाम लगे जबकि सारे सबूत उनको निर्दोष साबित कर रहे है।

7.) शिव कुमार कहते हैं कि पुरुषों को ब्लैकमेल करने और प्रताड़ित करने के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं हो रही हैं, इससे बड़ा दुर्भाग्य और क्या होगा इस देश का। #MenToo_UntoldTruth

🚩8.) महक का कहना है कि स्वतंत्र देश में सबको समान अधिकार है जीने का, फिर पुरूष के साथ अन्याय क्यूँ ? निर्दोष होने पर भी दोषी होने का ठप्पा क्यूँ ? जेसा की Sant Shri Asaram Bapu Ji व Narayan साईं जी के केस में देखने को मिला है ।
#MenToo_UntoldTruth

9.) राजीव लिखते हैं कि कोई महिला किसी निर्दोष पुरुष पर फर्जी रेप आरोप भी लगाए तो क्यों उसे सच माना जाता है ?
पुरुष भी निर्दोष हो सकता है ये क्यूं नहीं सोचा जाता❗जाँच क्यों नहीं की जाती?
 #MenToo_UntoldTruth

🚩10.) कृष्णा लिखती हैं कि POCSO Act का भयंकर दुरुपयोग हो रहा है। जैसे Sant Shri Asaram Bapu Ji के फर्जी केस में किया गया। 13 सरकारी दस्तावेजों में लड़की बालिग पाई गई फिर भी POCSO Act खारिज नही किया गया।
#MenToo_UntoldTruth

🚩इस प्रकार आज लगभग एक लाख के आसपास ट्वीट्स देखने को मिली हैं जिसके द्वारा महिला और पुरुष #MenToo_UntoldTruth मुहिम का हिस्सा बनें ।

🚩एक पुरुष से उसकी माँ, उसकी बहन, उसकी पत्नी आदि जुड़े होते हैं, यदि किसी झूठे केस में एक पुरुष को फँसाया जाता है तो उसके साथ-साथ अन्य लोगों की जो उससे जुड़े होते हैं, उनकी जिंदगियां भी तबाह हो जाती हैं । अतः पुरुषों के अधिकारों की रक्षा तथा उन्हें शोषण से बचाने हेतु एक स्वतंत्र पुरुष आयोग का गठन हो तथा झूठे केस करने वाली महिलाओं पर सख्त से सख्त कार्यवाही हो । यही जनता की मांग है।

🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻

🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk

🔺 facebook :

🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt

🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf


🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG

🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
Translate »