Press "Enter" to skip to content

उत्तराखंड के बाद हिमाचल में गाय को मिला “राष्ट्रमाता” का दर्जा

15 दिसंबर 2018
🚩गाय माता देश की धरोहर है और उसमें 33 करोड़ देवताओं का वास होता है, देश में गौभक्त सदियों से लड़ाई लड़ रहे हैं पर न न्यायालय सुन रहा है और ना ही सरकार, लेकिन अभी एक खुशी की खबर आई है कि उत्तराखंड के बाद हिमाचल प्रदेश में भी विधानसभा में गाय को राष्ट्रमाता’ घोषित करने का बिल पास हो गया है ।
🚩गाय को राष्ट्रमाता घोषित करने वाला हिमाचल प्रदेश देश का दूसरा राज्य बन गया है । शिमला के कुसमपट्टी से कांग्रेस विधायक की ओर से लाए संकल्प प्रस्ताव पर भाजपा और कांग्रेस के सभी सदस्यों ने हामी भरते हुए सर्वसम्मति से पारित कर दिया । कांग्रेस विधायक अनिरुद्ध की ओर से सदन में रखे गए इस गैर सरकारी सदस्य कार्य संकल्प को पारित करने के बाद अब स्वीकृति के लिए केंद्र को भेजा जाएगा । गुरुवार को शीतकालीन सत्र का प्राइवेट मेंबर्स डे था । इस दौरान कांग्रेस विधायक ने गाय को राष्ट्रमाता घोषित करने हेतु कोई नियम बनाने का प्रस्ताव रखा । 
After Uttarakhand, the cow got the status of “nation mother” in Himachal

🚩अनिरुद्ध ने सत्र में कहा कि गौमाता का इस्तेमाल करने के बाद उसे लावारिस छोड़ दिया जाता है । मामले में मोब लिंचिंग का दौर भी आया । ऐसे में गाय को राष्ट्रमाता घोषित करने का प्रस्ताव केंद्र को भेजा जाना चाहिए । इसके बाद सत्तापक्ष भाजपा और विपक्षी कांग्रेस के सभी सदस्यों ने गाय को राष्ट्रमाता घोषित करने के लिए हामी भरी और संकल्प सदन में सर्वसम्मति से पारित हो गया ।
🚩अनिरुद्ध की बात का समर्थन करते हुए सदन में पशुपालन मंत्री वीरेंद्र ने कहा कि वर्ष 2011-12 के अनुसार, हिमाचल में 21 लाख 49 हजार गायें पंजीकृत हुईं थी, इनमें से 40 हजार गायें सड़कों पर हैं, 10 हजार गायें गौशालाओं में हैं ।  बता दें कि धर्मशाला में 10 से पंद्रह दिसंबर तक हिमाचल विधानसभा का शीतकालीन सत्र चल रहा है । 
🚩हिमाचल में खुलेंगी काऊ सेंक्चुरीज :-
इससे पहले भी हिमाचल में बेसहारा और लावारिस गायों को शेल्टर और चारे की व्यवस्था के लिए सरकार की ओर से पहल की जा रही है । प्रदेश पशुपालन विभाग सूबे भर में 13 काऊ सेंक्चुरी स्थापित करेगा । इसके तहत ऊना में 3, चंबा में 2, कांगड़ा में 2, हमीरपुर में 2, बिलासपुर में 2 तथा सिरमौर में 2 गौ-अभ्यारण्य बनेंगे. ऊना में इसके लिए थानाकलां, गगरेट और कटौहड़ कलां में जगह भी चिन्हित कर ली गई हैं ।
🚩शराब पर सेस लगाती है सरकार :-
हिमाचल में गौ संरक्षण और संवर्धन के लिए प्रदेश सरकार ने शराब की बिक्री पर भी एक प्रतिशत सेस लगाया है। इससे करीबन 10 करोड़ की सालाना आय होने का अनुमान है । बीते बजट सेशन में इसका प्रावधान किया गया था । यह राशि पूरी तरह से बेसहारा गायों के संरक्षण पर खर्च होगी ।
🚩आखिर क्यों उठती है बार-बार गाय माता को राष्ट्रमाता घोषित करने की मांग ?
1.गौ माता में #तैंतीस करोड़ देवताओं का वास है ।
2. गौ माता अन्नपूर्णा देवी, कामधेनू तथा मनोकामना पूर्ण करने वाली है।
3. गौ #माता #धर्म की धुरी है । गौ माता के बिना धर्म की कल्पना भी नहीं की जा सकती । 
4 .गाय के #दूध, घी, #गोबर, #दही और 
गौ-मूत्र के निर्मित पंचगव्य से शरीर में रोग-प्रतिकारक शक्ति बढ़ाने की क्षमता बढ़ती है ।
5.  गाय #धार्मिक #आर्थिक #सांस्कृतिक व #आध्यात्मिक दृष्टि से सर्वगुण संपन्न है ।
🚩गौमाता ही सनातन धर्म की मूल है । जिस गौमाता के दूध की खीर से भगवान राम अवतरित हुए, जिस गौमाता के पीछे भगवान कृष्ण भागते रहे, जिस गौमाता की रक्षा के लिए भगवान परशुराम ने अपने पिता की हत्या का प्रतिशोध लिया, जिस गौमाता के कारण ही हमारे 16 संस्कार पूर्ण होते है, जो गौमाता भारत माता का साकार स्वरूप है, जो गौमाता आज़ादी की क्रांति का मूल है, जो गौमाता धर्म, अर्थ, काम और  मोक्ष देने वाली है, जो गौमाता भारत की अर्थव्यवस्था की रीढ़ है, जो गौमाता भारत को विश्वगुरु बना सकती है, जो गौमाता किसानों को गोबर का मूल्य दिला सकती है, जो गौमाता दूध से ही कुपोषण को दूर कर सकती है, जो गौमाता प्रकृति को प्राणवायु दे सकती है, जो गौमाता आरोग्य की मूल है,जो गौमाता स्वयं प्रकृति है, जो गौमाता भारत का स्वरूप है उस गौमाता को 70 वर्षो से निरंतर काटा जा रहा है, इससे बड़े शर्म, दुर्भाग्य और पाप की बात क्या होगी भला ।
🚩सोचिए गौमाता को हम विश्वमाता कहते हैं और माता मानते हैं, लेकिन भारत सरकार के दस्तावेजों में गाय पशु है और पशु काटने के 36000 से अधिक वैध-अवैध कत्लखाने हैं भारत में, इसलिए जब तक गाय पशु है तब तक कौन उसे बचा सकता है और जब गाय माता है तो कौन माई का लाल उसे काट सकता है । इसलिए गाय माता को राष्ट्रमाता का दर्जा दिलाना जरूरी है ।
🚩गौ-माता भारत देश की रीड की हड्डी है । जो सभी को स्वस्थ्य #सुखी जीवन जीने में मदद रूप बनती है । देशवासियों को आजीवन गौ-माता की रक्षा के लिए कटिबद्ध रहना चाहिए ।
🚩जैसे उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश सरकार ने प्रयास किया, गाय माता को “राष्ट्रमाता” दर्जा दिलाने के लिए ऐसे ही हर राज्य की सरकार और केंद्र सरकार को प्रयास करके गाय माता को राष्ट्रमाता का दर्जा दिलवाना चाहिए ।
🚩गौमाता की इतनी उपयोगिता और उसकी हत्या हो रही है उससे लगता है कि अब वक्त आ गया है कि सभी को मिलकर #गौ-माता को #राष्ट्रमाता का दर्जा दिलाकर तन-मन-धन से इसकी रक्षा करनी चाहिए ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
 🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
 🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
 🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
 🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »