Press "Enter" to skip to content

ईसाई मिशनरियों का जिहाद बढ़ता ही जा रहा है, जनता पर बरसा रहे हैं कहर

2 दिसंबर 2018
🚩भारत सहिष्णु देश है उसका फायदा राष्ट्रविरोधी ताकतें जमकर उठा रही हैं । आज भारत मे ईसाई मिशनरियों का जिहाद बढ़ता ही जा रहा है, कभी लालच देकर या जबरन धर्मपरिवर्तन करवाना, पादरियों द्वारा बलात्कार करना, मानव-तस्करी करना, कॉन्वेंट स्कूलों में हिन्दू त्यौहारों पर बेन लगाना, तिलक, मेहंदी नहीं लगाने देना आदि अनेक काले कारनामे कर रहे हैं पर मीडिया, सरकार या न्यायालय किसी का भी उस तरफ ध्यान ही नहीं जा रहा है ।
🚩अभी हाल ही में दो ऐसी घटनाएं हुई हैं जिसे पढ़कर आपको भी इन ईसाई मिशनरियों से नफरत होने लगेगी ।
🚩(1)50 लड़कियों का छुटकारा:-
Jihad of Christian missionaries continues to grow, people are ravaging the public
तमिलनाडु के तिरुवन्नमलाई के जिला कलेक्टर के. एस. कंदसामी को सूचित किया गया था कि उनके अधिकार क्षेत्र में मर्सी अदिकलपुरम मिशनरी होम सरकारी नियमों का उल्लंघन कर रहा था । इसके तुरंत बाद, उन्होंने होम को जाँच के लिए बंद कर दिया और उन्होंने जो देखा वह उनके लिए किसी सदमे से कम नहीं था ।
🚩सबसे पहले, होम का बुनियादी ढांचा एक अपमानजनक स्थिति में था । फिर, उन्होंने देखा कि 5 से 22 साल की उम्र के बीच लगभग 50 लड़कियां वहां रहती थीं और फिर भी एक पुरुष सुरक्षा गार्ड द्वारा पर्यवेक्षित की गई थी । जब कंदसामी ने पाया कि घर के निदेशक 65 वर्षीय लुबान कुमार भी अपने परिवार के साथ एक ही इमारत में रहते थे तो उन्हें संदेह हो गया और उन्होंने जांच शुरू की ।
🚩टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए, आईएएस अधिकारी ने कहा “लुबान कुमार ने जानबूझकर उन सभी बाथरूम  के दरवाजे हटा दिए ,” उन्होंने कहा कि उनका कमरा इस बाथरूम से जुड़ा हुआ था और वह लड़कियों को स्नान करते देखने के लिए एक खिड़की खोल देता । इसके अलावा, उसने हॉल में एक सीसीटीवी कैमरा स्थापित किया था जिससे वो अपने कमरे से लड़कियों को कपड़े बदलते देखता था । “
🚩रिपोर्ट के मुताबिक, जब एक लड़की ने लुबान की पत्नी मर्सी को इस दुर्व्यवहार के खिलाफ बोलने का साहस दिखाया तो उसने लड़कियों को मारने के लिए लुबान के भाई को भेजा और उन्हें मुँह बंद रखने के लिए कहा गया ।
🚩‌यह सुनकर कंदसामी ने सभी लड़कियों को सरकारी होम में स्थानांतरित कर दिया । जब वे एक सुरक्षित स्थान पर होने के बारे में आश्वस्त हुईं तो उन्होंने आईएएस अधिकारी के सामने मर्सी मिशनरी होम का पर्दा फाश किया । अन्य चीजों के अलावा, लुबान कुमार लड़कियों को रात में अपने कमरे में आने आकर मालिश करने के लिए कहता ।
🚩कलेक्टर ने तुरंत जूवेनाइल जस्टिस एक्ट व प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रन फ्रॉम सेक्सशुअल ऑफन्सेस एक्ट के तहत तिरुवनमलाई में एक पुलिस स्टेशन में लुबान कुमार, मर्सी और लुबान के भाई के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई । इसके बाद, मिशनरी होम भी सील कर दिया गया था।
🚩(2) रांची में धर्मांतरण मामला:-
रांची : रांची अदालत ने मंगलवार को पुलिस को शिक्षक द्वारा दर्ज शिकायत के बाद ‘जबरन धर्मांतरण” के आरोप में कारमेल स्कूल के प्रिंसिपल और तीन अन्य कर्मचारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया ।
🚩शिक्षक नलिनी नायक ने दावा किया कि उन्हें ईसाई धर्म अपनाने से इंकार करने के बाद सेवा से निकाल दिया गया था ।
नलिनी ने आरोप लगाया कि उसे धर्म परिवर्तित करने के लिए मजबूर किया जा रहा था और जब उसने मना कर दिया तो उसे प्रिंसिपल द्वारा सेवा से निकाल दिया गया।
🚩नायक के वकील अवीश रंजन मिश्रा ने बताया कि छेड़छाड़ के साथ आपराधिक षड्यंत्र के आरोप लगाए गए हैं ।
अदालत ने पुलिस को इस मामले में एक कार्यवाही की  रिपोर्ट दर्ज करने का निर्देश दिया, उन्होंने कहा, “नायक को आरोपी द्वारा मानसिक रूप से यातना दी जा रही थी और यहां तक ​​कि उनके द्वारा भी पीटा भी गया था।”
🚩शिकायतकर्ता ने कहा कि वह 6 अप्रैल, 2013 को स्कूल में जोईन हो गई थी और 1 अप्रैल, 2016 को उनकी सेवा में इस शर्त पर पुष्टि की गई थी कि वह ईसाई धर्म अपनाएगी । नौकरी में पुष्टि होने के तुरंत बाद, प्रिंसिपल, सिस्टर डेलिया और स्टाफर्स सिस्टर एम रेनिशा, सिस्टर टेरेसिटा मारी और सिस्टर मारी टेरेसा ने देर रात स्कूल परिसर में चर्च सेवा और धार्मिक कार्यों में भाग लेने के लिए दबाव डालना शुरू कर दिया ।
“27 सितंबर को, प्रिंसिपल ने मुझे अपने कक्ष में बुलाया और धमकी दी कि अगर मैं ईसाई धर्म में परिवर्तित होने से इंकार कर दूं तो मुझे मार दिया जा सकता है । 1 अक्टूबर को, मुझे सेवा से निकाल दिया गया । सौजन्य: द न्यू इंडियन एक्सप्रेस
🚩इन खबरों से पता चलता है कि मिशनरियों का अत्याचार एक चरम सीमा तक पहुँच गया है तो अब इसपर रोक लगानी चाहिए, सरकार न्यायालय को संज्ञान लेना चाहिए ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

2 Comments

  1. Ketan Patel Ketan Patel December 2, 2018

    Very grim situation

  2. Ghanshyam das godwani Ghanshyam das godwani December 2, 2018

    इन खबरों से पता चलता है कि मिशनरियों का अत्याचार एक चरम सीमा तक पहुँच गया है तो अब इसपर रोक लगानी चाहिए, सरकार न्यायालय को संज्ञान लेना चाहिए ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »