Press "Enter" to skip to content

आतंकवादियों का खात्मा और कश्मीर में शांति के लिए यह काम शीघ्र करना होगा

22 फरवरी  2019
🚩कश्मीर के कारण आज पूरे देश की सुरक्षा भी खतरे में है इन सबकी वजह से कड़ी सुरक्षा रखनी पड़ रही है लेकिन इस समस्या के समाधान के लिए सरकार को ये कदम शीघ्र उठाने चाहिए जिससे हमारे देश में पैदा हो रहे गद्दारों में कमी होगी और आतंकवादियों का खात्मा होगा ।
🚩केंद्र सरकार ने अलगावादियों की दी जाने वाली सुविधाएँ बंद कर दी है । देर से ही सहीं पर यह सहीं कदम है । इन सुविधाओं पर सरकार 100 करोड़ रुपये से अधिक सालाना खर्च किया करती है । सरकार के पैसे से अलगाववादी फाइव स्टार होटलों में ठहरते हैं और सरकारी गाड़ियों में घूमते हैं । यदि अलगाववादी बीमार हो जाएं तो उनका देश-विदेश में इलाज का खर्च भी सरकार उठाती है । फिलहाल अलगाववादियों की सिक्योरिटी में 900 से ज्यादा पुलिसकर्मी तैनात हैं । जम्मू-कश्मीर सरकार के सूत्रों के मुताबिक अलगाववादियों पर हो रहे खर्च का कुछ हिस्सा केंद्र उठाता है जबकि जम्मू-कश्मीर सरकार कुल खर्च का लगभग दस प्रतिशत उठाती है । सूत्रों के अनुसार पिछले छह सालों में अलगाववादियों पर केंद्र और राज्य सरकार ने लगभग 700 करोड़ रुपये खर्च किए थे । 2010 से 2015 तक कश्मीर में अलगाववादियों के घर की सुरक्षा के लिए 18 हज़ार पुलिसकर्मियों को बतौर गार्ड तैनात किया गया था । इन सुरक्षाकर्मियों की सैलरी पर राज्य सरकार ने 309 करोड़ रुपये खर्च किए । इसके अलावा अलगाववादियों के पीएसओ पर 150 करोड़ रुपये खर्च किए गए । इन पांच वर्षों के दौरान अलगाववादियों की गाड़ियों में इस्तेमाल होने वाले तेल का खर्च 26 करोड़ रुपये से ज्यादा का था ।
🚩कश्मीर की समस्या का समाधान
कश्मीर की सारी समस्याओं का समाधान अलगाववादियों को मलाई खिलाने में नहीं है, अपितु उन पर अंकुश लगाने में है । यह जगजाहिर है कि कश्मीर में आतंकवाद को बढ़ावा देने में अलगाववादियों का बड़ा हाथ है । मगर बहुत कम लोगों को यह मालूम है कि अलगाववादियों को कश्मीर में क्या-क्या सुविधाएँ दी जा रही थी । इस गैंग ने ऐसा किया ही क्या था जो इन्हें केंद्रीय मंत्री के समान सुविधा प्राप्त थी ? इन सुविधाओं को जिस  भी सरकार ने लागु किया था, यह उनकी नीतिगत भारी भरकम गलती थी । क्योंकि इससे इस बीमारी का कोई समाधान नहीं हुआ । अपितु यह लाईलाज बन गई ।
🚩इस बीमारी का एक ही इलाज है:-
1.  धारा 370 और 35-A को तत्काल प्रभाव से हटाया जाये । जम्मू कश्मीर में सभी भारतवासियों को बसने का पूरा अधिकार हो । ताकि जनसंख्या समीकरण में बदलाव किया जा सके । समान नागरिक संहिता को लागु किया जाये ।
🚩2. अलगाववादियों को जेलों में ठूस दिया जाये ।
3. देश में विभिन्न राज्यों में पढ़ने वाले कश्मीरी छात्र जब भी अलगाववाद की कोई बात करें तो उन्हें जेल भेजा जाए ।
🚩4. कश्मीर में सभी मदरसों में राष्ट्रवादी शिक्षा का प्रावधान किया जाये ।
5. कश्मीर में आर्मी को खुली छूट देशहित को ध्यान में रखते हुए दी जाये ।
🚩6.  पाकिस्तान और उसके आका चीन को यथोचित सबक सिखाया जाये ।
7. कश्मीरी पंडितों को पुनः बसाया जाएं ।
🚩8. वंजारा जी को रक्षामंत्री या गृहमंत्री का पद दिया जाए ।
आपको बता दें कि गुजरात के पूर्व डीआईजी डीजी वंजारा जी एक ऐसे जांबाज अधिकारी थे जिन्होंने गुजरात को दूसरा कश्मीर होने से बचाया है ।
🚩वंजारा जी के कार्यकाल के समय गुजरात में काफी गुंडे, डॉन बढ़ गए थे और गुजरात में दहशत फैला रहे थे, अपराधिक प्रवृत्तियां बढ़ती जा रही थी, आतंकवाद का भय मंडरा रहा था उस समय वंजारा जी ने अनेक आतंकवादियों का एनकाउंटर कर दिया, गुजरात में जो गुंडे और डॉन थे उनको ठिकाने लगा दिया, अपराधियों को सजा दिलवाई, अपराधिक प्रवृत्तियां रुक गईं और गुजरात में सुख-शांति छा गई ।
🚩वंजाराजी ने आतंकवादियों के पूरे नेटवर्क का पता लगा लिया था, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जब गुजरात के मुख्यमंत्री थे तब उनकी हत्या करने के लिए आतंकवादी आ रहे थे  वंजारा जी ने उनका एनकाउंटर करके नरेंद्र मोदी को बचा लिया था ।
आज भी उनके नाम से आतंकवादी संगठन कांपते हैं । हमारे पास ऐसे-ऐसे देशभक्त हैं, जिन्होंने अपना जीवन देश के लिए अर्पित कर दिया है । सरकार को उनका सदुपयोग करना चाहिए जिससे देश का भला हो सके ।
🚩सरकार को यह सभी कदम शीघ्रता से उठाने चाहिए अन्यथा हमारे जवान शहीद होते रहेंगे और देश में शांति का माहौल खत्म होता जाएगा ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
 🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
 🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
 🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
 🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
Translate »